जयपुर 
राजस्थान के बूंदी के केशोरायपाटन पुलिस ने बीते 10  जुलाई को हुई दीपक नायक ब्लाइंड मर्डर की घटना का पर्दाफाश कर दिया है। पुलिस ने हत्या के मुख्यारोपी सोनू रेगर को भी गिरफ्तार कर लिया है। दीपक नायक सोनू की पत्नी पर बुरी नजर रखता था और छेड़छाड़ भी कर चुका था। जिसके चलते सोनू ने उसकी हत्या कर दी थी। और शव को लाडपुर नहर के पास ड्रेन के नाले में फेंक फरार हो गया था। दरअसल, पुलिस ने जिस दीपक नायक के ब्लाइंड मर्डर की घटना का राजफाश किया है। उसमें बेहद चौकाने वाली वजह सामने आई है। दीपक नायक की हत्या उसी के पड़ौसी सोनू रेगर द्वारा की गई थी। दीपक नायक उसकी पत्नी पर बुरी नजर रखता था और पहले भी कई बार उसकी पत्नी के साथ छेड़छाड़ कर चुका था। जिसको लेकर कई बार दोनो के बीच विवाद हो चुका था। और सोनू रेगर ने उससे नफरत रखने लगा था। जिसके चलते उसने योजनाबद्ध तरीके से दीपक नायक की हत्या कर दी और शव को ड्रेन के नाले में फेंक दिया था।

बीयर पार्टी के बहाने ले जाकर दिया गया था वारदात को अंज़ाम
दीपक नायक की हत्या करने से पहले सोनू रेगर ने योजना बनाई। सबसे पहले उसने दीपक नायक को अपने भरोसे में लिया और बीयर पार्टी करने की बात कहकर उसे अपने साथ ले लाडपुर ले गया। जहां दोनो ने पहले बीयर पार्टी की और जब दीपक नायक नशे में हो गया था। सोनू रेगर ने पीछे से बीयर की बोतल से उसके सिर पर वार कर दिया और उसी बोतल के ताबड़तोड़ वार कर दीपक नायक की हत्या कर दी। और उसके शव को लाडपुर नहर के पास बने ड्रेन के गंदे नाले में फेंक फरार हो गया।

छेड़छाड़ के विवाद से मिला सुराग- पुलिस के लिए सर्विलांस बना मददगार
दीपक नायक की हत्या के बाद से सोनू रेगर फरार चल रहा था। और पुलिस टीम तफ्तीश में जुटी थी। इस दौरान पुलिस को पता चला कि पत्नी से छेड़छाड़ को लेकर सोनू रेगर और दीपक नायक से कई बार झगड़ा हो चुका था। और हत्या की वारदात के दिन से सोनू रेगर भी गायब चल रहा है। जिसके बाद पुलिस टीम ने सर्विलांस का सहारा लिया और सोनू के मोबाईल की लोकेशन ट्रेस की जिसके बाद केस की कड़ियाँ खुलती चली गई। और पुलिस ने सर्विलांस की मदद से सोनू रेगर को गिरफ्तार कर लिया।

दीपक नायक मर्डर केस में मनोवैज्ञानिक की भी ली गई मदद: पुलिस अधीक्षक 
दीपक नायक मर्डर केस में पुलिसाधिकारियो के मुताबिक मनोवैज्ञानिक की भी मदद ली गई। जिनकी पूछताछ से पता चल पाया कि सोनू रेगर ने पत्नी पर बुरी नजर रखने के चलते दीपक की हत्या की थी। साथ ही इस खुलासे दो क्षेत्राधिकारी व दो थानों टीम और सर्विलांस टीम लगी थी। जिसके चलते घटना का सफल निवारण किया गया है।