ग्वालियर
पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज ग्वालियर में हमला बोला। उन्होंने कहा कि वे अपना टूट रहा घर संभालें जहां तक सवाल राजभवन में अगली विधायक दल की बैठक का है, तो मैं इतना ही कहूंगा ‘दिल बहलाने के लिए गालिब ख्याल अच्छा है।’ दरअसल मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के छोटे भाई अजय प्रताप सिंह ‘मुन्नू भैया’ के निधन पर ग्वालियर शोक संवेदनाएं व्यक्त करने गए थे। वहां पर मीडिया से चर्चा में उन्होंने यह बात कही। दरअसल रविवार को पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कांग्रेस विधायक दल की बैठक के बाद कहा था कि उनकी अगली बैठक राजभवन में शपथ के बाद होगी क्योंकि वे उप चुनाव में भारी जीत दर्ज कर फिर से सरकार बनाने जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कमलनाथ ने इसी बयान पर कटाक्ष किया है।

इधर गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कहा है कि कांग्रेस पार्टी में अब कांफीडेंस नहीं है, इसलिए कांग्रेस के नेता ऐसे बयान देकर कांफीडेंस जाहिर करना चाह रहे हैं ताकि बाकी लोग न भाग जाएं। कांग्रेस की भगदड़ रुक जाएं।  मिश्रा ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को यह नहीं मालूम कि जो कांग्रेस विधायक उनके साथ डेढ़ साल रहे हैं, वे और भ्रम में नहीं आने वाले हैं, वे कमलनाथ की क्षमता और मैनेजमेंट को जान गए हैं। अब शपथ कहां से ले लेंगे। जब मौका मिला तब तो नहीं संभाल पाए, अब सिर्फ बातें हैं। काग्रेस विधायकों का विश्वास उन पर कभी नहीं रहा है।  मंत्री मिश्रा ने कहा कि दिग्विजय सिंह के दलितों को लेकर हो रहे धरने पर पहुंचने पर कहा कि वे गब्बू पारदी के लिए नहीं जाएंगे तो किसलिए जाएंगे। उनका जाना इस बात का द्योतक है कि जिस पर चालीस से अधिक केस दर्ज हैं, वे उसके साथ हैं।

मुख्यमंत्री चौहान, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष वीडी शर्मा, प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत और नगरीय विकास मंत्री भूपेंद्र सिंह आज भोपाल से ग्वालियर पहुंचे। यहां ये सभी केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के निवास पहुंचे जहां पर सभी ने तोमर के छोटे भाई अजय प्रताप सिंह तोमर (मुन्नू भैया) के निधन पर शोक जताया और उनकी तस्वीर पर श्रद्धांजलि अर्पित की। सीएम चौहान ने अजय के असमय स्वर्गवास होने को दुखद बताते हुए कहा कि यह नरेंद्र सिंह तोमर परिवार के लिए बड़ी क्षति है।