श्योपुर
जिले मे कोरोना का कहर थमने का नाम नही ले रहा है बुधवार शाम जिला चिकित्सालय से प्राप्त कोरोना रिर्पोट में भी दो कोरोना संक्रमितों की पुष्टि हुई है । मध्यप्रदेश के स्वास्थ्य मंंत्री नरोत्तम मिश्रा के घर-घर- सर्वे के एलान के बाद जिला प्रशासन के निर्देश पर श्योपुर जिले मे संक्रमित ईलाको व फल ठेले,फल व सब्जी फेरी,बारबर दुकाने ,हलवाई ,होटल संचालक व कई दुकानदारों के सैम्पल प्रारंभ कर दिये है । उसी क्रम मे जिला मुख्यालय पर शिवपुरी रोड से  इसकी शुरूआत करते हुए कुल 21 सैम्पल लिये ।

 वैश्विक महामारी कोरोना वायरस से जहां पूरी दुनिया प्रभावित है वहीं श्योंपुर जिले में भी हर एक दो दिन के अंतराल या कभी कभी रोजाना कोरोना संक्रमण की खबर सामने आ रही है । कोरोना संक्रमण अब हर ढलते दिन के साथ बढ़ता दिखाई दे रहा है । कोरोना वायरस के संक्रमण से देश ओर प्रदेश के साथ ही अब श्योपुर जिले के हालात भी बदतर होते जा रहे है,बुधवार को जिले मे मिले दो कोरोना मरीजो के साथ ही संक्रमितों की संख्या बढ़कर 70 पहुच गई है  । आंकडो के हिसाब से बात करे तो जिले मे कुल सैम्पल मे पॉजिटीव मरीजों का प्रतिशत 4.5 है वहीं मौत के मामलों मै 0.13 है ।  श्योपुर जिले में संक्रमितों की संख्या ने जहां अर्धशतक पार किया वहीं कोरोना सैम्पल की संख्या भी 1570 पहुच गई है । श्योपुर जिले मे कोरोना संदिग्ध मानते हुए अब तक लगभग 1570 सैम्पल लिये जिसमे जांच उपरांत 1308 लोगो की जांच रिर्पोठ नेगेटिव प्राप्त हुई है वहीं 70 लोगो को कोरोंना संक्रमित पाया गया ओर बाकी रिर्पोट आना शेष है ।

जिला प्रशासन ओर स्वास्थ्य विभाग सहित कई संस्थाये लोगो को कोरोना से बचने के लिए तरह तरह की सलाह भी प्रदान कर रहे हें  यहां बता दे कि बुधवार को श्येापुर मे 21 ,विजयपुर में 46 बडौदा 10ओर कराहल मे 10, सैम्पल लिये गये जिनमे से विजयपुर से लिए गये सभी सैम्पल जांच के लिए ग्वालियर भेजे जायेंगे ओर श्योपुर ओर कराहल के सैम्पल की जांच जिला चिकित्सालय मे की जायेगी। श्योपुर मे बुधवार शाम आई कोरोना जांच रिर्पोट मे दो ओर व्यक्ति संक्रमित पाये गये  लेकिन राहत की बात यह रही कि इसमे किसी नये कोरोना मरीज की पुष्टि नही हुई दोनो ही मिले कोरोना मरीज पूर्व मे संक्रमित पाये कोरोना मरीज के रिश्तेदार पाये गये है । यहां बता दे कि प्रदेश सरकार द्वारा जिला चिकित्सालय श्योपुर को एक ओर कोरोना मशीन उपलब्ध करा दी गई है ओर अब जिला चिकित्सालय की कोरोना टेस्टिंग क्षमता भी लगभग 60 सैम्पल प्रतिदिन हो जायेगी ।  

जिले मे कोरोना संक्रमण काल मे जहां आम जनता पहले ही खासी परेशानियों का सामना ओर तनाव झेल रही है वही स्वास्थ्य विभाग द्वारा अब जिन कोरोना मरीजों को डिस्चार्ज किया जा रहा है वह भी बिना अन्तिम कोरोना जांच के।   आमजन मे खासी चर्चा का विषय है कि जब यह सभी पॉजिटीव आये इसकी जानकारी सैम्पल लेने के बाद पुष्ट हुई,वहीं 10 दिन इन्हे आईसोलेशन मे रख बिना जांच कराये घर भेजना कहां तक सही है । प्रारंभ मे मिले चारो कोरोना मरीजों की लगातार दो जांच नेगेटिव आने के बाद ही उन्हे डिस्चार्ज किया गया। अब केवल आईसोलेशन मे रख उन्हे डिस्चार्ज करना कहीं आमजनता के जीवन से खिलवाड तो नही । क्यों कि यदि इनमे कोई भी व्यक्ति संक्रमित रह गया तो वह फिर से अपने परिजनों सहित कई लोगो को इसकी जद मे ला सकता है। हालाकि स्वास्थ्य विभाग के सुत्रों का कहना है कि हम क्या करे शासन की गाईड लाईन है कि यदि 10 दिन बाद किसी भी मरीज मे लक्षण नहीं दिखते है तो उन्हे घर भेजा जा सकता है ओर लक्षण दिखने वाले व्यक्ति का ही दोबारा सैम्पल कराया जावे ।  

जिला प्रशासन के निर्देश पर अब स्वास्थ्य विभाग द्वारा होटल स्टॉफ,नाई की दूकानों के कर्मचारी,फेरी लगाकर फल सब्जी बेचने हलवाई सहित कई अन्य लोगो के सैम्पल भी प्रारंभ किये गये है । जिसके तहत जिला मुख्यालय श्योपुर कराहल ,विजयपुर व बडौदा से बारबर ,होटल कर्मचारी,हलवाई,वे घूमकर सब्जी व फल बेचने वाले सहित कुल 41सैम्पल लिये गये । इसी तारतम्य मे जिले भर मे संक्रमित क्षेत्राों में व भीडभाड वाले ईलाको सहित जनता से ज्यादा जुडाव वाली दुकानों के कर्मचारियों की स्क्रीनिंग कर सैम्पल लिये जायेंगे । प्रदेश सरकार की इस मुहिम से जिले को कोरोना संक्रमण से मुक्ति दिलाई जावेगा।