लखनऊ 
उत्तर प्रदेश सरकार ने कहा है कि तबलीगी जमात के कारण कोरोना केस लगातार बढ़ रहे हैं। ऐसे में अगर एक भी कोरोना केस रहा तो लॉकडाउन खुलना मुश्किल होगा। 15 अप्रैल के बाद भी लॉकडाउन की अवधि बढ़ाई जा सकती है। जमात के कारण ही यह संक्रमण कई नए जिलों में भी फैलता जा रहा है।

प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह व सूचना अवनीश अवस्थी ने सोमवार को कहा कि 15 अप्रैल के बाद लॉकडाउन खोलने पर अभी विचार करना मुश्किल है। कारण यह है कि पिछले कुछ दिनों में संवेदनशीलता बढ़ी है। यह तबलीगी जमात के लोगों के विभिन्न शहरों में जाने के कारण हुआ है। इसके कारण लॉकडाउन खुलेगा या नहीं इस बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता। उन्होंने कहा अगर एक भी केस प्रदेश में रह जाता है तो लॉकडाउन खोलना उचित नहीं होगा। क्योंकि लॉकडाउन में जितनी भी व्यवस्था बनाकर कोरोना वायरस के केसों को नियंत्रित किया गया है, लॉकडाउन खुलने पर फिर वही  स्थिति आ सकती है।

अवस्थी ने कहा कि मुख्यमंत्री ने रविवार को धर्मगुरुओं से भी बात की थी। धर्मगुरुओं ने कहा था कि अभी लॉकडाउन खोलना ठीक नहीं है। उन्होंने मुख्यमंत्री से यह भी कहा था कि अफवाह फैलानों वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। धर्मगुरुओं ने मोहल्लों में कोरोना वारियर्स बनाने का भी प्रस्ताव दिया था। मुख्यमंत्री ने रविवार को सांसदों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान उनसे सुझाव मांगते हुए कहा था कि 15 अप्रैल से लॉकडाउन खोलने की तैयारी है। इस बारे में  सांसद उन्हें सुझाव लिखकर भेजें।