भोपाल
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आव्हान और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर भोपाल कलेक्टर तरुण पिथोड़े ने जिले में आगामीे 21 दिनों तक यानी 14 अप्रैल की रात तक पूरे जिले में लॉक डाउन और कर्फ्यू के निर्देश जारी किए है। कलेक्टर पिथोडे़ ने बताया कि पूर्व में ही धारा 144 के अंतर्गत सभी निर्देश जारी किए जा चुके है। आम जनता को घबराने की जरूरत नही है। भोपाल में आवश्यक चीजों की बिक्री को लेकर हमने कोई टाइम तय नहीं किया है। बस एक चीज की मांग की है कि वह दुकानों में भीड़ न लगाएं। यदि वह सामान लेने जाते हैं और दुकान में भीड़ दिखती है, तो वहां से वापस चले जाएं। दुकानदार का नंबर ले ले उन्हें अपनी जरूरत की सामान की सूची या फिर जब दुकान में भीड़ ना हो तब दुकान में आने की सूचना को लेकर बात करें। भोपाल वासियों को सूझबूझ धैर्य और समझदारी दिखाने की जरूरत है। भोपाल में जरूरत की सारी दुकानें खुली रहेंगी। लॉक डाउन में पुलिस स्टेशन, पेट्रोल पंप, गैस सेवाएं, बिजली, मेडिकल, कैमिस्ट, राशन की दुकानें, नर्सिंग होम, फल सब्जी की सप्लाई जारी रहेगी।

 कलेक्टर ने बताया कि कल प्रधानमंत्री जी की घोषणा के बाद पूरे भोपाल में अजीब माहौल हो गया था। साथ ही दुकानों पर अधिक रेट का सामान बेचने की शिकायतें मिली थी। इस संबंध में आज सुबह भोपाल में कालाबाजारी रोकने के लिए कुछ विशेष टीमें बनाई गई है, जो 24 घंटे कालाबाजारी रोकने के लिए काम करेंगे। साथ ही जनता द्वारा आने वाली शिकायतों पर भी हम तुरंत कार्यवाही करेंगे।

 कलेक्टर ने बताया कि भोपाल के कई इलाकों में पेयजल की समस्या है। अब गर्मी की शुरुआत हो चुकी है। ऐसे में नगर निगम के अलावा प्राइवेट टैंकरों की आवाजाही प्रभावित नहीं होने दिया जाएगा। पहले की तरह अब भी प्राइवेट टैंकर पानी की सप्लाई करेंगे, लेकिन वह टैंकर में एक व्यक्ति ही सफर करेगा। साथ ही है शहरवासी जब भी घर से बाहर निकले अपने साथ एक आईडी लेकर निकले।