इंदौर
पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी के एमडी विकास नरवाल ने बिजली के बिल वसूलकर कम्पनी का राजस्व बढ़ाने और उपभोक्ताओं को परेशानी से बचाने के लिए गांवों और हाट बाजार में बिल जमा कराने की सुविधा शुरू कराई है। इसके बाद गांवों के लोगों को दस से बारह किमी दूर जाने से निजात मिल रही है और वे बिल भुगतान वाहन सेवा का लाभ ले रहे हैं। कंपनी द्वारा जिन जिलों में यह सेवा शुरू की गई है, उनमें रतलाम, मंदसौर, नीमच, उज्जैन, आगर, शाजापुर, देवास, इंदौर, धार, झाबुआ, आलीराजपुर, खंडवा, खरगोन, बड़वानी, बुरहानपुर के आदिवासी इलाके शामिल हैं।

पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ने ग्रामीण क्षेत्रों में आसानी से बिजली बिल वसूलने के लिए नया प्रयोग शुरू किया है। इसके लिए उपभोक्ताओं को पंचायत, हाट, चौपाल के पास बिल भरने के लिए सहज भुगतान सेवा वाहन प्रारंभ किए गए हैं। ये वाहन रोज 4-5 गांवों, बस्तियों, मोहल्लों में पहुंचकर बिल का अमाउंट लेकर कम्प्यूटराइज्ड रसीद दे रहे हैं। इस वाहन में लाइनमैन भी मौजूद रहता है, जो गांव वालों की बिजली समस्या का निराकरण भी करता है। इस वसूली वाहन से इंदिरा गृह ज्योति योजना एवं इंदिरा किसान ज्योति योजना की भी जानकारी प्रदान की जा रही है। कंपनी क्षेत्र में कुल 50 सहज भुगतान सेवा वाहन प्रतिदिन रोज 250 गांवों में जा रहे हैं।