जबलपुर
संस्कारधानी के जबलपुर स्थित मां नर्मदा के ग्वारीघाट में आज से गौ कुंभ का आगाज हो रहा है।यह गौ कुंभ 24 फरवरी से 3 मार्च तक चलेगा।बताया जा रहा है कि इस कुंभ में प्रतिदिन संत समागम के साथ ही नागा साधु भी शाही स्नान करेंगे।जबलपुर के लिए यह पहला अवसर है जब शहर में इतने बड़े स्तर पर गौ कुंभ का आयोजन किया जा रहा हो।

नरसिंह मंदिर से दोपहर 2:00 बजे शुरू होने वाली पेशवाई में पहली बार ऐसा नजारा होगा जो अभी तक किसी कुंभ में नहीं देखा गया।अन्य कुंभ में सभी संतो की अलग अलग पेशवाई निकलती है लेकिन नर्मदा गौ कुंभ की पेशवाई में नागा साधु,अखाड़ों और संतो के साथ एक साथ दिखेंगे।कुंभ में करीब 500 से ज्यादा नागा साधु और लगभग 3000 संत शामिल होंगे।पेशवाई में सबसे आगे गजराज चलेंगे। साथ ही ढोल नगाड़ों के साथ नागा साधुओं का जत्था और महामंडलेश्वर सहित संतों की टोली शामिल होगी। आयोजन में देश के कई हिस्सों से संतों ने आने की स्वीकृति पहले ही दे दी है।

पेशवाई का समापन कुंभ में जाकर होगा। आज से शुरू हो रहा है गौ कुंभ को लेकर जिला प्रशासन और नगर निगम ने 67 एकड़ में तैयारी की है। जिसमें की हर सुविधा का ध्यान रखते हुए पंडाल और पानी की बेहतर व्यवस्था भी की गई है। आयोजन में लगातार 9 दिन तक बिजली सप्लाई चालू रहेगी। ऐतिहासिक तौर पर कुंभ में 125 केवी के सात ट्रांसफर लगाए गए हैं।इसके अलावा नर्मदा गौ कुम्भ में 100 से ज्यादा सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए हैं जो की अप्रिय घटनाओं की रोकथाम के लिए कारगर साबित होगी।आज से शुरू होने वाले गौ कुंभ को लेकर शहर की यातायात व्यवस्था भी दुरुस्त की गई है कई मार्गों पर आवागमन प्रतिबंधित किया गया है।

कुछ इस तरह से रहेगा पेशवाई… पेशवाई जुलूस का मार्ग नरसिंह मंदिर छोटी लाइन फाटक से शुरू होकर बंदरिया तिराहा, रामपुर चौक, बादशाह हलवाई मंदिर,खंदारी नाला, रेत नाका,ग्वारीघाट होते हुए जिलहरी मोड़ तक जाएगा।