नई दिल्ली 
जाफराबाद में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ जाम लगाने का प्रयास करने वालों पर शनिवार देर शाम पुलिस को हल्का बल प्रयोग करना पड़ा। देर रात तक स्थिति तनावपूर्ण बनी रही।

शाहीनबाग की तरह ही जाफराबाद मार्ग पर भी महिलाएं लगभग डेढ़ महीने से सीएए के विरोध में धरने पर बैठी हैं। यहां महिलाओं और आंदोलनकारियों द्वारा रविवार सुबह जाफराबाद रोड से राजघाट तक पैदल मार्च निकालने की योजना थी। हालांकि, पुलिस की ओर से इसकी अनुमति नहीं दी गई। इसी के चलते इलाके में तनावपूर्ण स्थिति थी।
 
पुलिस ने किया बल प्रयोग
इसे देखते हुए शनिवार रात जाफराबाद मार्ग पर अर्धसैनिक बल और बड़ी संख्या में पुलिस को तैनात किया गया था। हालांकि, इससे तनाव और बढ़ गया। देर रात करीब साढ़े दस बजे धरने पर बैठी महिलाएं बड़ी संख्या में सड़क पर उतर आईं और उन्होंने जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के नीचे एकत्रित होकर सड़क पूरी तरह जाम कर दी। आधे घंटे तक महिलाओं ने सड़क बंद रखी। इसी बीच पुलिस ने बल प्रयोग कर उन्हें मौके से हटाया।

शाहीनबाग में 70 दिन बाद एक रास्ता खुला
शाहीनबाग में रास्ता खोलने के लिए मध्यस्थता की कोशिशों के बीच शनिवार को थोड़ी राहत भरी खबर आई। 70 दिनों बाद स्थानीय लोगों ने अबुल फजल एनक्लेव (ठोकर नंबर 9) मार्ग पर बैरिकेड हटा दिए। इससे लोग अब आश्रम, जामिया नगर, होली फैमिली, बाटला हाउस, अबुल फजल एनक्लेव से ठोकर नंबर छह और नौ होकर कालिंदी कुंज मेट्रो तक जा सकते हैं।