वॉशिंगटन
अमेरिकी वायु सेना ने सिखों सहित विभिन्न समुदायों की धार्मिक भावनाओं को ध्यान में रखते हुए अपने ड्रेस कोड में बदलाव किया है ताकि इन समुदाय के लोगों को बल में शामिल होने में किसी अड़चन का सामना नहीं करना पड़े।

वायु सेना की नई नीति को 7 फरवरी को अंतिम रूप दिया गया। नागरिक अधिकारों के लिए काम करने वाली संस्था 'सिख कोअलिशन' ने कहा कि किसी भी सिख-अमेरिकी को अपनी धार्मिक मान्यताओं और अपनी करियर की महत्वाकांक्षाओं के बीच चयन नहीं करना चाहिए। संस्था ने कहा कि वायुसेना में नीतिगत बदलाव उसके अभियान का परिणाम है जो उसने 2009 में शुरू किया था।
सिख कोओलिशन के वकील गिजेले क्लैपर ने कहा, 'सिखों ने अमेरिकी सुरक्षा बलों और दुनियाभर की मिलिटरी में सम्मानपूर्वक तरीके से अपनी क्षमता के अनुरूप सेवाएं दी हैं और हम चाहते हैं कि सिख-अमेरिकी नागरिक मिलिटरी की सभी साखाओं में सेवाएं दे सकें, यह नीति एयर फोर्स में अवसरों की समानता और धार्मिक आजादी की दिशा में बेहतरीन कदम है।'