छिंदवाड़ा
सर्जिकल स्ट्राइक (Surgical strike) पर उठे तमाम सवालों और विवाद के अरसे बाद आज मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ (CM Kamalnath) ने फिर इस मुद्दे को हवा दे दी है. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) से सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत मांगे हैं. कमलनाथ ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक वह है जो पूर्व प्रधानमंत्री स्व. इंदिरा गांधी ने 1971 में की थी.

सीएम कमलनाथ आज अपने निर्वाचन क्षेत्र छिंदवाड़ा में हैं. वहां एक गौशाला के लोकार्पण के दौरान उन्होंने सर्जिकल स्ट्राइक की बात छेड़ दी. कमलनाथ ने कहा कि देश की जनता जानना चाहती है कि सर्जिकल स्ट्राइक कब हुआ, कहां हुआ. इसका क्या परिणाम हुआ. सिर्फ मुंह से कह देने भर से काम नहीं चलेगा. हम सर्जिकल स्ट्राइक पर शक नहीं कर रहे, लेकिन पीएम देश की जनता को तो इस बारे में बताएं.

कमलनाथ ने इंदिरा गांधी को याद करते हुए कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने पाकिस्तान के 92 हजार सैनिकों को सरेंडर कराया था. एक वो सर्जिकल स्ट्राइक थी और एक ये है. पीएम जनता को तो बताएं कि सर्जिकल स्ट्राइक कब और कैसे हुई थी. उसका परिणाम क्या निकला.

सीएम कमलनाथ ने छिंदवाड़ा में कहा कि पीएम किसी भी सभा या रैली में किसान और रोजगार की बात नहीं करते. देश में बेरोजगारी बढ़ रही है. उन्होंने उंगली उठाई कि पीएम राष्ट्रवाद की बात करते हैं, लेकिन एक भी स्वतंत्रता सेनानी बीजेपी में नहीं है. जनता अब बीजेपी को समझ गई है. इसलिए अब उसे गुमराह नहीं किया जा सकता.

मुख्यमंत्री ने कहा, 'हम मोदीजी की तरह बड़ी-बड़ी घोषणाएं नहीं करते. हमने कभी छिंदवाड़ा में बड़ी-बड़ी घोषणाएं नहीं की. कभी सड़क, अस्पताल और विश्वविद्यालय बनाने की घोषणा नहीं की. लेकिन काम करके दिखाया. हमें अपनी नई पीढ़ी के लिए नए देश और प्रदेश का निर्माण करना है.'