नई दिल्ली
नागरिकता संशोधन कानून को लेकर देशभर में जारी विरोध के बीच आज सर्वोच्च अदालत में बड़ी सुनवाई है. सुप्रीम कोर्ट में CAA के समर्थन-विरोध में 144 से अधिक याचिकाएं दाखिल की गई हैं, जिनपर आज सुनवाई होगी. इनमें 141 कानून के खिलाफ, 1 कानून के समर्थन में और एक याचिका केंद्र सरकार की ओर से दाखिल की गई है. सुनवाई से पहले अदालत के बाहर कुछ महिलाओं ने इस कानून के खिलाफ प्रदर्शन भी किया.  
महिलाओं ने किया SC के बाहर विरोध
सुनवाई से पहले सुप्रीम कोर्ट के बाहर कुछ महिलाओं ने CAA का विरोध भी किया. मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट के बाहर कुछ महिलाएं पोस्टर, बैनर लेकर पहुंचीं. हालांकि, कुछ समय के बाद उन्हें वहां से हटा दिया गया था.
समर्थन में और केंद्र की याचिका पर भी सुनवाई
सिर्फ इस कानून के खिलाफ ही नहीं बल्कि समर्थन में भी याचिका दायर की गई है. अदालत में एक याचिका कानून के समर्थन में दायर की गई है, जबकि एक याचिका केंद्र सरकार की है. केंद्र सरकार ने अपनी याचिका में अपील की है कि देश की जितनी हाई कोर्ट में इस कानून को लेकर याचिका दायर की गई हैं, उन्हें सभी को सुप्रीम कोर्ट में लाया जाए.
सुप्रीम कोर्ट में 144 याचिकाओं पर सुनवाई
मोदी सरकार के द्वारा नागरिकता संशोधन कानून पेश करने के बाद से ही इस पर बवाल चल रहा है. विपक्षी पार्टियों से लेकर आम जनता तक सड़क पर कानून का विरोध हो रहा है. वहीं अदालत में कानून के खिलाफ 141 याचिकाएं दायर की गई हैं, जिनपर सुनवाई होनी है. याचिकाओं में कानून को संविधान के खिलाफ, भारत की मूल भावनाओं के खिलाफ बताया गया है. असदुद्दीन ओवैसी, महुआ मोइत्रा, कई राजनीतिक दल, मुस्लिम संगठन समेत अन्य लोगों की ओर से अदालत में याचिका दायर की गई है.