नई दिल्ली
मध्य प्रदेश के राजगढ़ में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के समर्थन में प्रदर्शन के दौरान डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा का एक प्रदर्शनकारी को पीटने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने इस घटना पर कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की है. शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट किया, आज का दिन लोकतंत्र के सबसे काले दिनों में गिना जाएगा. आज राजगढ़ में डिप्टी कलेक्टर साहिबा ने जिस बेशर्मी से CAA के समर्थन में प्रदर्शन कर रहे कार्यकर्ताओं को लताड़ा, घसीटा और चांटे मारे, उसकी निंदा मैं शब्दों में नहीं कर सकता. क्या उन्हें प्रदर्शनकारियों को पीटने का आदेश मिला था? 

असल में, प्रशासन सीएए के समर्थक प्रदर्शनकारियों को रोकने की कोशिश कर रहा था और बीचे रास्ते में प्रदर्शन कर रहे लोगों को वहां से हटा रहा था. इसी दौरान डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा एक प्रदर्शनकारी को थप्पड़ मारने लगीं. तभी किसी प्रदर्शनकारी ने डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा के बाल खींच दिए. संसद में पारित किए गए नागरिकता संशोधन कानून को लेकर मध्य प्रदेश में तकरार बढ़ती ही जा रही है. इस कानून के विरोध और समर्थन का दौर जारी है. पिछले दिनों इस कानून के विरोध में लगातार राजधानी के इकबाल मैदान में लोगों ने जमा होकर गुस्से का इजहार किया. इस आयोजन में कांग्रेस के नेताओं ने भी हिस्सा लिया. सीएए के समर्थन में भी रैलियां निकाली गईं. रविवार को राजगढ़ में एक ऐसी ही रैली आयोजित की गई थी जिसमें एक प्रदर्शनकारी को मारने की घटना सामने आई.

मंडला के कलेक्टर पर विवाद
अभी हाल में मंडला जिले के कलेक्टर जगदीश प्रसाद जटिया की ओर से सीएए के खिलाफ ककी गई टिप्पणी विवादों में आ गई थी. बीजेपी ने जटिया पर सेवा शर्तों के उल्लंघन का आरोप लगाया. वहीं पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्यपाल लालजी टंडन से शिकायत की. मंडला के कलेक्टर जड़िया ने फेसबुक पर सीएए केा लेकर टिप्पणी की थी. इस पर बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह, नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव, सांसद वी.डी. शर्मा ने इस टिप्पणी पर आपत्ति दर्ज कराई. साथ ही कहा कि कलेक्टर जटिया ने सेवा शर्तों का उल्लंघन किया. जो कानून बन चुका है, उसका कलेक्टर की ओर से विरोध किया जाना गलत है.