लखनऊ
उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी (एसपी) ने सत्ताधारी बीजेपी को बड़ा झटका दिया है। कभी सीएम योगी आदित्यनाथ के करीबी रह चुके सुनील सिंह के एसपी में शामिल होने के बाद पार्टी अध्यक्ष और पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने बीजेपी पर निशाना साधा है। अखिलेश ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि जल्द ही हिंदू युवा वाहिनी के लोग बीजेपी के असली इरादों को बेनकाब करेंगे।

हिंदू युवा वाहिनी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुनील सिंह के एसपी में शामिल होने का स्वागत करते हुए अखिलेश ने कहा, 'आदित्यनाथ सरकार के अब गिनती के दिन बचे हैं और उल्टी गिनती पहले ही शुरू हो चुकी है। मुझे खुशी है कि हिंदू युवा वाहिनी के कार्यकर्ता अब एसपी के साथ हैं और मुझे उम्मीद है कि वे बीजेपी के असली इरादों से पर्दा हटाते हुए उसकी पोल खोलेंगे।'


2017 में हिंदू युवा वाहिनी से निकाले गए थे सुनील
तीन साल पूर्व योगी आदित्यनाथ के यूपी का सीएम बनने से पहले सुनील सिंह की गिनती उनके सबसे करीबी लोगों में होती थी। हिंदू युवा वाहिनी के प्रदेश अध्यक्ष रह चुके सुनील ने शनिवार को एसपी की औपचारिक सदस्यता ली। अखिलेश यादव और मुलायम सिंह की मौजूदगी में उन्होंने एसपी का दामन थामा। 2002 में योगी आदित्यनाथ ने हिंदू युवा वाहिनी संगठन बनाया था। जनवरी 2017 में अनुशासनहीनता के आरोप में सुनील को संगठन से निष्कासित कर दिया गया था। बाद में सुनील ने हिंदू युवा वाहिनी भारत नाम से अपना अलग संगठन बनाते हुए खुद को इसका राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित किया था।

हिंदू-मुस्लिम खाई पैदा कर रही बीजेपी: अखिलेश
अखिलेश ने बीजेपी सरकार पर हिंदू-मुस्लिम के बीच खाई पैदा करने का आरोप लगाते हुए कहा, 'बीजेपी सरकार ने उसकी नीतियों का विरोध करने पर विपक्षी नेताओं के खिलाफ केस लाद दिए हैं। सरकार पहले ही दिन से अन्याय कर रही है। विरोध करने वालों पर झूठे केस दर्ज किए जा रहे हैं। बीजेपी केवल सांप्रदायिकता को भड़काने का काम कर रही है।'

इस दौरान एसपी संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने कहा कि युवा एसपी का भविष्य हैं और भारत को विकसित देश बनाने के लिए किसान, युवा और कारोबारियों को मजबूत करना होगा। इस दौरान बीएसपी से निष्कासित सीएल वर्मा ने भी एसपी की सदस्यता ग्रहण की।