भोपाल
पुलिस मुख्यालय ने प्रदेश के बेरोजगारों के लिए रोजगार के अवसर पिछले चार महीनों में तेजी से खोलें हैं। इसके तहत 50 हजार से एक लाख बेरोजगारों को भी रोजगार मिल सकता है। हालांकि ये रोजगार पुलिस या पुलिस मुख्यालय से जुड़ा नहीं होगा। दरअसल पुलिस मुख्यालय ने पिछले चार महीनों में दो सौ से ज्यादा निजी सुरक्षा एजेंसियों को लाइसेंस जारी किए हैं। इसमे एक ऐसी भी सुरक्षा एजेंसी है, जिस पर देश के दो प्रमुख शहरों के एयरपोर्ट की सुरक्षा का भी जिम्मा है।

प्रायवेट सिक्युरिटी एजेंसी को लेकर प्रदेश में बने नियमों के बाद पिछले 6 साल में करीब 900 निजी सुरक्षा एजेंसियों को लाइसेंस दिए गए थे। जिनमें करीब लाखों लोग काम करते हैं। इस दौरान यहां पर कई और बड़ी निजी सुरक्षा एजेंसी भी काम करने के लिए लाइसेंस चाहती थी, उनके आवेदन पेंडिंग थे।

प्रदेश में रोजगार बढ़ाने के अवसरों को लेकर पुलिस मुख्यालय को भी मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ताकीत कर रखा है। नतीजे में प्रायवेट सिक्युरिटी एजेंसी शाखा ने पेडिंग पड़े लाइसेंस के आवेदनों पर तेजी से काम किया। इसमें नियमों का पूरी तरह से पालन करने वाली एजेंसियों को लाइसेंस दिए जाने का काम तेजी से चल रहा है।

पिछले 4 महीनें में 200 से ज्यादा सुरक्षा एजेंसियों को प्रदेश में लाइसेंस दिया गया है। इसमें देश की सबसे बड़ी सुरक्षा एजेंसी भी शामिल हैं। यह एजेंसी देश के कई एयरपोर्ट की सुरक्षा भी करती है। इस एजेंसी में देश भर में करीब 1 लाख कर्मचारी इस वक्त कार्यरत है।

पुलिस मुख्यालय के अफसरों का मानना है कि एक एजेंसी में औसतन 250 कर्मचारियों की तैनात होगी। इस लिहाज से प्रदेश में 50 हजार रोजगार तो बढ़ेंगे ही। कुछ एजेंसी ऐसी है, जो हजारों की संख्या में कर्मचारी रखने की तैयारी कर रही है। ऐसे में रोजगार उपलब्ध होने की संख्या बढ़ सकती है।