उज्जैन
मध्यप्रदेश में मौजूद भगवान शंकर के  दो ज्योतिर्लिंग सीधे उत्तर प्रदेश के काशी विश्वनाथ से जुड़ेंगे। इंदौर के समीप स्थित ओंकारेश्वर और महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग नई ट्रैन सेवा शुरू होने के बाद यूपी के काशी विश्वनाथ से जुड़ जाएंगे। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने इसकी घोषणा आज इंदौर में की है। रेल मंत्री ने कहा कि इंदौर से काशी विश्वनाथ तक ओवरनाइट एक्सप्रेस चलेगी। निजी ट्रेन का संचालन आईआरसीटीसी करेगा। इसके साथ ही इंदौर रेलवे स्टेशन को राजवाड़ा की तर्ज पर विकसिक किया जाएगा।

गौरतलब है कि इंदौर से काशी विश्वनाथ के बीच ट्रेन चलाने की घोषणा केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार में पिछले कार्यकाल में की गई थी। केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल रविवार सुबह महाकाल के दर्शन को उज्जैन पहुंचे थे। महाकालेश्वर मंदिर में भस्म आरती शामिल होने के बाद उन्होंने परिवार के साथ गर्भगृह में पहुंचकर पूजन-अर्चन किया और भगवान से आशीर्वाद लिया। गोयल के अनुसार पर्यटन की दृष्टि से लोग उज्जैन-इंदौर सहित काशी विश्वनाथ भी घूमना चाहते हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए आईआरसीटीसी के माध्यम से रेलवे द्वारा एक विशेष ट्रेन शुरू की जा रही है। इससे पहले काशी विश्वनाथ के लिए अहमदाबाद से भी एक विशेष ट्रेन 17 जनवरी को रवाना हो रही है। उसी की तर्ज पर यह ट्रेन भी इंदौर और काशी के बीच में चलाई जाएगी।

 केंद्रीय मंत्री गोयल ने कहा कि भारत में आने वाले पर्यटक देश के सबसे सुंदर शहर इंदौर को भी देखना चाहते हैं। देश में जो प्राइवेट ट्रेन चलने वाली है, यह ट्रेन भी उसी में से एक होगी। इंदौर से कई ट्रेनों को लेकर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इसके लिए विस्तार से योजनाएं बनाई जा रही है और जो नई ट्रेन शुरू होना है उनके ट्रैक पर भी काम चल रहा है, जिसके बाद इंदौर से शुरू होने वाली नई ट्रेनें भी जल्दी चालू हो जाएंगीं। इंदौर से रवाना होने वाली हमसफर एक्सप्रेस में यात्रियों की संख्या पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि यदि ऐसी बात है तो वे अधिकारियों से बात करेंगे। रेलवे में निजीकरण के सवाल पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अगले 12 साल में 50 लाख करोड़ का निवेश रेलवे में किया जा रहा है, जिससे कि रेलवे को कई सुविधाएं मिलने वाली हैं।