रायपुर
केरल की राजधानी तिरूवनन्तपुरम में आयोजित होने वाले 27वीं राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस 2019 में सुकमा जिले के चार प्रतिभागी हिस्सा लेंगे। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल और स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने प्रतिभागियों को बधाई और शुभकमानाएं दीं है। उल्लेखनीय है कि सुकमा जिले के इन प्रतिभागियों द्वारा जापानी इंसेफेलाइटिस ए मेजर प्रॉब्लम आॅफ छत्तीसगढ़ सुकमा और कचरे से समृद्धि विषय पर बनाई गई मॉडल का चयन राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस के लिए हुआ है।

सुकमा जिले के चयनित प्रतिभागी केरल के तिरूवनन्तपुरम में 27 से 31 दिसम्बर को आयोजित होने वाले राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस छत्तीसगढ़ का प्रतिनिधित्व करेंगे। इन प्रतिभागियों को सुकमा जिले के कलेक्टर श्री चंदन कुमार ने भी सम्मानित कर उनका उत्साहवर्धन किया। हाल ही में रायपुर में आयोजित राज्य बाल विज्ञान कांग्रेस में सुकमा जिले के बाल वैज्ञानिक कुमारी श्रेया श्रीवास ने अपने शिक्षक श्री याबेश राजा के मार्गदर्शन में जापानी इंसेफेलाइटिस ए मेजर प्रॉब्लम आॅफ छत्तीसगढ़ सुकमा विषय पर परियोजना का निर्माण किया, वहीं कुमारी निशा नाग ने शिक्षक श्री नागेश दास के मार्गदर्शन में कचरे से समृद्धि उप कथानक पर पूजन के पश्चात निकलने वाले पूजन सामग्रियों का उचित प्रबंधन कर नदियों को प्रदूषण मुक्त करना परियोजना का प्रस्तुतीकरण किया।

उल्लेखनीय है कि राजधानी रायपुर में आयोजित राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस में कुल 123 परियोजनाओं के मॉडल प्रस्तुत किए गए। छत्तीसगढ़ राज्य से राष्ट्रीय स्तर विज्ञान कांग्रेस में भाग लेने के लिए वरिष्ठ वर्ग में 10 परियोजना का चयन किया गया। सुकमा जिले से आईएमएसटी अंग्रेजी माध्यम उच्चतर माध्यमिक विद्यालय सुकमा की छात्रा कुमारी श्रेया श्रीवास, सहयोगी कुमारी जयंती कुन्डु और शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय सुकमा की छात्रा कुमारी निशा नाग, सहयोगी कुमारी तनु कश्यप का चयन हुआ है।