न्यूयॉर्क
सऊदी अरब की सार्वजनिक क्षेत्र की पेट्रोलियम कंपनी अरामको ने गुरुवार को अपना आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (IPO) पेश किया। दो सूत्रों ने बताया कि कंपनी ने अपने मूल्य दायरे के ऊपरी स्तर पर 25.6 अरब डॉलर जुटाए हैं। सूत्रों ने कहा कि रियाद स्टॉक एक्सचेंज में अरामको के शेयर 32 रियाल के शुरुआती मूल्य पर बेचे जाएंगे। इस हिसाब से कंपनी का मूल्यांकन 1,700 अरब डॉलर बैठता है।
अब तक का सबसे बड़ा आईपीओ

इससे यह अब तक की सबसे बड़ी कंपनी हो गई है। इससे पहले चीन की ऑनलाइन ट्रेडिंग कंपनी अलीबाबा ने 2014 में 25 अरब डॉलर जुटाए थे। उस समय अलीबाबा वॉल स्ट्रीट में उतरी थी।

ओवसीज मार्केट में लिस्टिंग का प्लान छोड़ा
पहले के प्लान के मुताबिक, कंपनी करीब 5 फीसदी शेयर दो चरणों में बेचने के बारे में सोच रही थी। दो फीसदी शेयर सऊदी अरब शेयर मार्केट में और बाकी के तीन फीसदी शेयर ओवरसीज मार्केट में बेचने की तैयारी थी। हालांकि कंपनी ने ओवरसीज मार्केट में शेयर लिस्टिंग का प्लान छोड़ दिया था।

चीन कर सकता है 10 अरब डॉलर का निवेश
चीन जो विश्व में सबसे ज्यादा तेल का आयात करता है, वह सॉवरेन वेल्थ फंड और स्टेट ओन्ड एंटरप्राइजेज की मदद से 10 अरब डॉलर (70 हजार करोड़ रुपये) का शेयर खरीद सकता है। सऊदी अरामको विश्व में सबसे ज्यादा प्रॉफिट कमाने वाली कंपनी है। 2018 में कंपनी की कुल इनकम 110 अरब डॉलर के करीब थी, मतलब अरामको की कमाई ऐपल, गूगल और Exxon मोबिल की कुल कमाई के बराबर है।