सीवान                                                                                                                                                                                               
अपने ड्रीम प्रोजेक्ट जन, जीवन हरियाली अभियान के तहत सीवान पहुंचे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि एक जगह के अच्छे कार्य को दूसरी जगह पहुंचा रहे हैं। सीवान-सारण की सीमा पर स्थित चंवर का मुआयना करने के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें यहां आकर काफी प्रसन्नता हुई है। इसे मॉडल के रूप में विकसित करने की जरूरत है, ताकि इससे प्रेरणा मिले। कहा कि सीवान जिले में चंवर काफी है। 35 एकड़ में फैले चंवर के 11 एकड़ को तालाब के रूप में विकसित करना व तालाब से निकली मिट्टी पर पेड़ लगाना एक अच्छी पहल है। सबसे बड़ी प्रसन्नता कि बात यह कि इस पूरे अभियान को छह लोगों द्वारा अंजाम दिया जा रहा है। 

जन जीवव हरियाली अभियान की चर्चा करते हुये सीएम नीतीश ने कहा कि चंवर में मछली उत्पादन तो हो ही रहा है, जीविका समूह को इस अभियान से जोड़ कर आमदनी भी बढ़ेगी। सरकार के अधीन जो चंवर हैं उनमें कार्य कराने से नये पोखरे का निर्माण हो सकेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि वह तो शुरू से नीचे मछली ऊपर बिजली की बात कहते आ रहे हैं। साढ़े सात एकड़ के पोखरा पर सोलर लगेगा तो इससे एक मेगावाट बिजली का उत्पादन होगा। सरकार इसकी खपत के बाद जो बिजली बचेगी उसे ले लेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि सीवान जिले के सिर्फ भगवानपुर प्रखंड में अकेले दो हजार 504 एकड़ भूमि चंवर है, जो बड़ी बात है।