मैनपुरी 
मैनपुरी में हुए अनुष्का कांड को लेकर सूबे की सियासत गरमा गई है। प्रियंका गांधी द्वारा मुख्यमंत्री को पत्र लिखे जाने के बाद सपा नेता रामगोपाल यादव ने भी गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की और अनुष्का कांड की सीबीआई जांच की मांग की। रामगोपाल की मांग पर गृहमंत्री ने सीबीआई जांच का भरोसा देकर 7 दिनों में सीबीआई के मैनपुरी पहुंचने का आश्वासन दिया है। सपा, कांग्रेस की सक्रियता देख रविवार को सीएम कार्यालय हरकत में आ गया और पूरे मामले की नए सिरे से समीक्षा शुरू कर दी।

मैनपुरी के सदर विधायक राजकुमार यादव ने हिन्दुस्तान को बताया कि अनुष्का के मामले में उन्होंने सपा के राष्ट्रीय महासचिव प्रो. रामगोपाल यादव को जानकारी दी थी। जिस पर राष्ट्रीय महासचिव ने गृहमंत्री अमितशाह से मुलाकात की और मामले में सीबीआई से जांच कराने की मांग की। सदर विधायक ने कहा कि गृहमंत्री ने जानकारी लेने के बाद रामगोपाल से कहा कि इस मामले की जांच सीबीआई करेगी। अगले 7 दिन में सीबीआई मैनपुरी जाकर जांच शुरू कर देगी। इस मामले में प्रसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल यादव मैनपुरी आकर सीबीआई जांच की मांग पहले ही कर चुके हैं। कांग्रेस नेतृत्व के निर्देश पर पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद भी मैनपुरी आकर अनुष्का के परिजनों से मुलाकात कर चुके हैं। ये घटनाक्रम होने के बाद रविवार को सीएम कार्यालय ने एसपी मैनपुरी से पूरे मामले की रिपोर्ट हासिल की और आवश्यक दिशा निर्देश दिए। 

प्रियंका ने 28 नवंबर को सीएम को लिखा है पत्र
28 नवंबर को कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा और मुख्यमंत्री से मांग की कि मैनपुरी में हुए अनुष्का कांड की जांच जल्द पूरी कराई जाय। आरोप लगाया कि मैनपुरी प्रशासन इस मामले में किसी को बचाने की कोशिश कर रहा है। प्रियंका के परिवार की बात नहीं सुनी जा रही। प्रियंका ने पत्र में अनुष्का कांड को लेकर जांच पर सवाल उठाए और 4 बिंदुओं पर सीएम का ध्यान आकर्षित किया है। प्रियंका ने विभिन शैक्षणिक संस्थानों में पढ़ रहीं छात्राओं की सुरक्षा के दृष्टिगत इस मामले में जल्द कार्रवाई की मांग सीएम से की है।

प्रियंका के पत्र के बाद सरकार सक्रिय हो गई
प्रियंका का पत्र आने के बाद सरकार भी सक्रिय हो गई। सीएम के मीडिया प्रभारी शलभ मणि त्रिपाठी ने शनिवार की शाम बयान जारी कर प्रियंका के पत्र को तथ्यों से परे बताया है और कहा कि पुलिस ने नहीं बल्कि परिजनों ने शव का अंतिम संस्कार किया था। उधर एसटीएफ की ओर से दाखिल की गई जांच रिपोर्ट की पड़ताल भी शुरू की गई है। रविवार को फिर एसपी मैनपुरी अजयशंकर राय ने भी प्रियंका के उस बिंदु को खारिज किया जिसमें आरोप लगाया गया कि प्रशासन ने परिजनों की गैरमौजूदगी में अनुष्का के शव को जल प्रवाह करा दिया। एसपी ने कहा कि परिजनों की संतुष्टि के लिए शव के पोस्टमार्टम चिकित्सकों के पैनल से कराया गया। पोस्टमार्टम के बाद परिजन अपनी मर्जी से शव ले गए।

अनुष्का के मामले में उन्होंने सपा के राष्ट्रीय महासचिव प्रो. रामगोपाल यादव को जानकारी दी थी। जिस पर राष्ट्रीय महासचिव ने गृहमंत्री अमितशाह से मुलाकात की और मामले में सीबीआई से जांच कराने की मांग की। सदर विधायक ने कहा कि गृहमंत्री ने जानकारी लेने के बाद राष्ट्रीय महासचिव रामगोपाल को सीबीआई से जांच कराने का आश्वासन दिया और कहा कि अगले 7 दिन में सीबीआई मैनपुरी जाकर जांच शुरू कर देगी। -राजकुमार यादव, सदर विधायक, मैनपुरी।