नई दिल्ली
दिल्ली विधानसभा का 2 दिवसीय शीतकालीन सत्र सोमवार से शुरू हो रहा है। सत्र के दौरान 4 बिल पेश किए जाएंगे। इनमें उच्च शिक्षा से जुड़ी 2 नई यूनिवर्सिटी के बिल भी होंगे। शीतकालीन सत्र के बारे में उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि 2 दिन के सत्र में अलग-अलग योजनाओं के लिए सप्लिमेंट्री बजट का प्रावधान करना है। इसके साथ कुल 4 बिल पेश किए जाएंगे।

2 बिल विश्वविद्यालय बनाने से जुड़ा हुआ
पेश किए जानेवाले 4 में से 2 बिल विश्वविद्यालय बनाने से जुड़ा है। बिल के पास होने के बाद दिल्लीवालों को इसका फायदा मिलेगा। उन्होंने कहा कि एक स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी होगा तो दूसरा स्किल, जो दिल्ली के युवाओं को स्किल बेहतर करने में मददगार साबित होगा। उन्होंने कहा कि दोनों ही विश्वविद्यालयों के विधेयक को कैबिनेट से मंजूरी मिल चुकी है। इसे एलजी ने भी मंजूरी दे दी है।

2 दिन के सत्र में सरकार पेश करेगी अपनी योजना
जानकारी के अनुसार, 2 दिन के इस सत्र में इस बार सरकार अपनी अलग-अलग योजनाओं के लिए बजट की कमी को पूरा करने के लिए सप्लिमेंट्री बजट पेश करेगी। इसके लिए सभी विभागों से नई योजनाओं के लिए बजट की मांग को भी इस सत्र में सप्लिमेंट्री बजट लाकर पूरा किया जाएगा। इसके अलावा सत्र में प्रश्नकाल का भी समय रखा गया है। इस दौरान विधायकों द्वारा पूछे गए सवालों के जवाब भी दिए जाएंगे।

कच्ची कॉलोनियों को नियमित करने पर चर्चा
बताया जा रहा है कि इस सत्र में कुछ महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा भी कराई जा सकती है। इनमें कच्ची कॉलोनियों को नियमित करने को लेकर चर्चा प्रमुख रूप से शामिल है। पांच साल के आप सरकार के कार्यकाल का यह अंतिम सत्र हो सकता है, क्योंकि कुछ ही महीने में चुनाव होने हैं, ऐसे में यह भी उम्मीद लगाई जा रही है कि शीतकालीन सत्र का समय और आगे नहीं बढ़ाया जा सकता। दो दिनों में ही इसे खत्म करने की योजना है। दूसरी ओर विपक्ष ने सरकार को घेरने का प्लान बनाया है। विपक्ष का कहना है कि अनाधिकृत कॉलोनी, गंदे पानी और महंगे प्याज के मुद्दे पर चर्चा की मांग की जाएगी।