लंदन

लंदन ब्रिज पर शुक्रवार को हुई चाकूबाजी की घटना को आतंकी हमला करार दिए जाने के बाद पुलिस की ओर से बयान जारी किया गया है कि हमले को अंजाम देने वाले संदिग्ध को ढेर कर दिया गया है। पुलिस ने बताया कि संदिग्ध जो बॉम वेस्ट पहना था वह नकली थी। वहीं स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, घटना में घायल हुए लोगों में से दो की मौत हो गई है।

 स्कॉटलैंड यार्ड के काउंटर टेररिज्म पुलिसिंग के सहायक आयुक्त नील बसु ने लंदन के न्यू स्कॉटलैंड यार्ड मुख्यालय में मीडिया को दिए एक बयान में कहा कि इस घटना में कई लोग घायल हुए हैं, जिनमें से कुछ की हालत गंभीर है।

नील बसु ने बताया कि मेट्रोपॉलिटन पुलिस फोर्स इस हमले को लेकर पहले खुले दिमाग से वजह तलाशने की कोशिश कर रही थी क्योंकि इस इलाके में काउंटर-टैरर ऑफिसर्स लगातार सर्च अभियान चलाते हैं ताकि लोगों की जान को खतरे में डालने वाली कोई घटना न हो। उन्होंने अपने बयान में कहा, 'हमें आज दोपहर दो बजे लंदन ब्रिज पर चाकूबाजी की घटना की सूचना मिली, जिसके बाद मेट्रोपॉलिटन पुलिस और सिटी ऑफ लंदन पुलिस के ऑफिसर्स मौके पर पहुंचे और कार्रवाई शुरू की। लंदन पुलिस के ऑर्म्ड स्पेशलिस्ट ऑफिसर्स द्वारा संदिग्ध व्यक्ति को मौके पर ढेर कर दिया गया है'।
 
बॉम जैकेट के बारे में जानकारी देते हुए बसु ने कहा, 'हमें ये भी रिपोर्ट्स मिली थीं कि हमलावर के पास विस्फोटक भी हो सकते हैं जिस वजह से घटनास्थल पर स्पेशलिस्ट ऑफिसर्स को बुलाया गया था। हालांकि, मैं इसकी पुष्टि करता हूं कि संदिग्ध जो जैकेट पहना था उस पर लगे विस्फोटक उपकरण नकली थे'।
 

इस मामले की जांच अब यूके के काउंटर-टेरर यूनिट के अधिकारियों को सौंप दी गई है। वहीं अभी तक हमले में घायल हुए लोगों की संख्या की पुष्टि नहीं हो सकी है। बीबीसी की रिपोर्ट्स के मुताबिक, घायल लोगों में से दो की अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई है।

वहीं ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने बसु की मीडिया ब्रीफिंग के तुरंत बाद एक बयान में कहा, 'इस घटना की जांच जारी है, लेकिन पुलिस ने इसकी पुष्टि कर दी है कि यह एक आतंकवादी घटना थी।' प्रधानमंत्री ने आगे कहा, 'मैं उन लोगों की असाधारण बहादुरी को भी श्रद्धांजलि देना चाहता हूं जिन्होंने दूसरों के जीवन को बचाने के लिए खुद की जान की परवाह किए बिना हमलवर को रोकने की कोशिश की।'