राजगढ़
भोपाल (bhopal) से बीजेपी सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर (pragya singh thakur) के संसद में दिए बयान का मध्य प्रदेश में भी विरोध हो रहा है. धरना-प्रदर्शन जारी है. लेकिन ब्यावरा के कांग्रेस विधायक गोवर्धन दांगी (govardhan dangi) तो सारी हदें पार कर गए. उन्होंने मीडिया (media) के सामने सरे आम ऐसी बात कही कि सब सुनकर सन्न रह गए. हालांकि बयान देने के कुछ देर बाद ही दांगी को अपनी ग़लती समझ आ गयी और अपने बयान के लिए माफ़ी मांग ली.

ब्यावरा से कांग्रेस विधायक गोवर्धन दांगी बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर के बयान के विरोध में प्रदर्शन के लिए निकले थे. विरोध करते-करते वो इतने आगे निकल गए कि मीडिया के सामने बोले-अभी तो सिर्फ प्रज्ञा ठाकुर का पुतला जलाकर विरोध प्रदर्शन किया है. अगर वो यहां आयीं तो उन्हें भी साक्षात जला दिया जाएगा.दांगी के बयान देते ही हलचल मच गयी. उन्हें अपनी ग़लती समझ आ गयी और वो फौरन अपने बयान से पलट गए. गोवर्धन दांगी ने तत्काल बयान के लिए माफ़ी मांग ली. उन्होंने कहा ऐसा नहीं होगा.

कांग्रेस ने पल्ला झाड़ा- अपनी पार्टी विधायक के इस आपत्तिजनक बयान पर कांग्रेस ने भी तत्काल प्रतिक्रिया दी. मंत्री पी सी शर्मा ने कहा,ये उनका वक्तव्य होगा. लेकिन सबसे पहले प्रज्ञा की सदस्यता खत्म करना चाहिए. शर्मा ने कहा-बीजेपी प्रज्ञा ठाकुर की सदस्यता खत्म करें या फिर वो महात्मा गांधी और सरदार पटेल का नाम लेना बंद करें.

बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताने के बाद विवादों में घिरीं हैं. मंगलवार को संसद में दिए उनके एक आपत्तिजनक बयान के बाद शुरू हुआ विरोध पूरे देश में फैल गया. कांग्रेस ने प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ धरना प्रदर्शन किया. पुतला जलाया. बीजेपी ने भी तत्काल उनके बयान की निंदा की. बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा था उनका बयान निंदनीय है. बीजेपी कभी भी इस तरह के बयान या विचारधारा का समर्थन नहीं करती. राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताने का खामियाजा प्रज्ञा ठाकुर को भुगतना पड़ा. पार्टी ने बुधवार को उन्हें रक्षा मंत्रालय की समिति से हटा दिया. इस सत्र में उन्हें संसदीय पार्टी की बैठकों में भाग लेने की अनुमति भी नहीं दी जाएगी. प्रज्ञा ठाकुर को रक्षा मामलों की संसदीय समिति के लिए नामित किया गया था. इस कमेटी की अगुवाई रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह कर रहे हैं.

देशभर में प्रज्ञा ठाकुर के बयान की तीखी निंदा हुई. लेकिन वो फिर भी नहीं मानीं. उन्होंने एक ट्वीट कर अपनी प्रतिक्रिया दी. प्रज्ञा ने लिखा-कभी-कभी झूठ का बवंडर इतना गहरा होता है कि दिन में भी रात लगने लगती है, लेकिन सूर्य अपना प्रकाश नहीं खोता. पलभर के बवंडर में लोग भ्रमित न हों सूर्य का प्रकाश स्‍थायी है. इसके साथ ही उन्होंने लिखा कि मैंने उधम सिंह जी का अपमान नहीं सहा बस.