भूत-प्रेत या नकारात्मक ऊर्जा एक अदृश्य शक्ति होती है जो कभी भी कहीं भी हो सकती है। इन चीजों को हम देख नहीं सकते लेकिन कुछ ऐसे संकेत हैं जो आपको यह बता देती है कि आपके घर और आपके आस-पास नकारात्मक उर्जा सक्रिय है।

इन्हें पहचानने के लिए आपको न तो किसी मशीन की जरुरत है और न किसी विशेष साधन की। आप तो बस इन 10 लक्षणों से जान सकते हैं कि आपके आस-पास कुछ पारलौकिक शक्तियां मौजूद हैं।

आपके घर में कोई पालतू पशु जैसे कुत्ता, बिल्ली है और उनका व्यवहार अचानक से बदल जाए तो इसे हल्के में न लें। यह नकारात्मक ऊर्जा की मौजूदगी का संकेत हो सकता है।

अगर आपको अक्सर अपने घर में किसी की मौजूदगी का एहसास होने लगे जबकि वहां कोई नहीं हो। इस हालात में आपको अपने घर में नकारात्मक ऊर्जा दूर करने के उपाय करने चाहिए।

अगर आपको अक्सर अपने घर में किसी की मौजूदगी का एहसास होने लगे जबकि वहां कोई नहीं हो। इस हालात में भी आपको अपने घर में नकारात्मक ऊर्जा दूर करने के उपाय करने चाहिए।

घर का तापमान अगर अचानक से बदल जाए यानी सब कुछ सामान्य होने पर अगर आप अपने आस-पास का तापमान कम महसूस होने लगे तो यह भी अच्छा संकेत नहीं है।

अगर आपके घर में अक्सर सब कुछ सामान्य हो और आप तेज सुगंध को अनुभव करते हैं तो इसका कारण नकारात्मक उर्जा की मौजूदगी हो सकता है।

याद से कोई चीज घर में संभालकर रखी गई हो और वह अपने स्थान पर नहीं मिले। यह घटना अगर बार-बार होने लगे तो यह संकेत है कि घर में सकारात्मक उर्जा बढ़ाने की जरुरत है।

देर रात कमरे में अगर किसी के रोने की आवाज सुनाई दे और वहां कोई मौजूद नहीं हो तो यह संकेत है घर में नकारात्मक उर्जा की मौजूदगी का।

अगर आपको यह लगने लगा है कोई आपको छू रहा है और आप पलटकर देखते हैं तो कोई मौजूद नहीं है। ऐसी घटना अगर बार-बार होने लगे तो संभव है कि आपके आस-पास नकारात्मक उर्जा सक्रिय है।

आपके घर में बार-बार काली बिल्लियां आने लगे तो यह अच्छा संकेत नहीं है यह नकारात्मक शक्ति की मौजूदगी को दर्शाता है। ऐसा भी माना जाता है कि यह घर में कुछ बुरा होने का संकेत है।

दोपहर में या देर रात अगर घर अजब-अजब सी आवाजें जैसे दरवाजा खटखटाने, किसी चीज के अचानक गिरने या चलने की आवाजें आएं तो इसे हल्के में नहीं लेना चाहिए। अगर यह घटना कई दिनों तक लगातार होने लगे तो यह आपको सजग रहने का संकेत है।

घर में लोग बार-बार बीमार होने लगे और लोगों का व्यवहार भी बदल जाए यानी आपस में प्यार से रहने वाले लोग एक दूसरे से लड़ने लगे तो यह भी नकारात्मक उर्जा का संकेत माना जाता है।

यह बातें सिर्फ मान्यताओं पर आधारित है जिन पर लोग परंपरागत तौर पर यकीन करते आए हैं। इनका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है।