जबलपुर
 मध्यप्रदेश में नेताओ की चरण वंदना का कार्यक्रम बदस्तूर जारी है। मंत्री प्रद्युमन सिंह के बाद अब विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति के द्वारा पैर छूने का मामला सामने आया है। जबलपुर में आज पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के पैर विधानसभा अध्यक्ष ने छूकर आशिर्वाद लिया। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है| भाजपा ने इसको लेकर सवाल उठाये हैं, वहीं कांग्रेस ने कहा यह सम्मान की बात है इसमें कुछ गलत नहीं है|  

दरअसल, जबलपुर में आज बगुलामुखी मंदिर के द्वार का शिलान्यास होना था जिसमे शामिल होने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री और विधानसभा अध्यक्ष जबलपुर पहुँचे थे।आज जैसे ही दिग्विजयसिंह मंदिर पहुँचे वैसे ही एनपी प्रजापति ने पैर छूकर उनका आशीर्वाद लिया। इस दौरान मीडिया से बात करते हुए दिग्विजयसिंह ने कहा कि अयोध्या मामले में आये सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले का आज पूरा देश स्वागत कर रहा है और कांग्रेस पार्टी हमेशा से ही इसके पक्ष में थी। अब रही ट्रस्ट बनाने की बात तो इस ट्रस्ट में राजनेता या राजनीतिक दल से प्रेरित व्यक्ति कोई ट्रस्ट में नही रखना चाहिए। स्वयं नरसिम्हा राव जी सहित जगतगुरु शंकराचार्य ने इसकी पहल की थी। इसलिए हमारा प्रयास होगा कि जब ट्रस्ट बने तो उसमें कोई भी दल का व्यक्ति न हो।

वही राम जन्म भूमि को लेकर आरएसएस के सबसे आगे रहने की बात पर पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि राम जन्म भूमि न्यास बाद में आया है।1980 से पहले जब लोकसभा में भाजपा दो रह गई थे तब उन्होंने राम जन्म भूमि का मुद्दा उठाया था।1984 के पहले भाजपा का कोई भी ऐसा प्रतिनिधि मंडल नही है जिसने राम जन्म भूमि की बात उठाई हो इसलिए भाजपा सिर्फ और सिर्फ राजनीति कर रही है।