पटना 
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह के निधन पर शोक संवेदना व्यक्ति की है। उन्होंने कुल्हड़िया कंप्लेक्स पहुंचकर स्व. सिंह के पार्थिव शरीर पर पुष्पचक्र अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी। वहां पत्रकारों से कहा कि राजकीय सम्मान के साथ स्व. सिंह का अंतिम संस्कार किया जा रहा है। उनका नाम सदैव लोग याद रख सकें, ऐसा कोई निर्णय लिया जाएगा। गणित और विज्ञान के क्षेत्र में उनका बड़ा योगदान था। उन्होंने पूरे विश्व में भारत और बिहार का नाम रोशन किया है।

मुख्यमंत्री ने कहा है कि वशिष्ठ नारायण सिंह ने बर्कले के कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय से 1969 में गणित में पीएचडी की डिग्री प्राप्त की। वाशिंगटन में गणित के प्रोफेसर के पद पर काम किया। 1971 में वे भारत लौट आये। आईआईटी कानपुर और भारतीय सांख्यकीय संस्थान, कलकत्ता में अध्यापन का कार्य किया। बीएन मंडल विश्वविद्यालय, मधेपुरा के वे विजिटिंग प्रोफेसर भी थे। उन्होंने ‘साइकिल वेक्टर स्पेस थ्योरी‘ पर शोध किया था। उनके निधन से बिहार एवं देश को अपूरणीय क्षति हुई है। मुख्यमंत्री स्व. सिंह के भाई अयोध्या सिंह, भतीजा राकेश कुमार सिंह समेत अन्य परिजनों से मिले और उन्हें ढाढ़स बंधाया।

वशिष्ठ नारायण के निधन पर राज्यपाल ने शोक जताया
राज्यपाल फागू चौहान ने प्रख्यात गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह के निधन पर गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है। राज्यपाल ने अपने शोक संदेश में कहा है कि वशिष्ठ नारायण सिंह एक प्रख्यात गणितज्ञ और भारत के सच्चे सपूत थे। उन्होंने अपनी प्रतिभा से पूरी दुनिया को चमत्कृत और आकर्षित करते हुए बिहार राज्य और पूरे देश को गौरवान्वित किया। उनके निधन से सम्पूर्ण राष्ट्र को अपूरणीय क्षति हुई है। राज्यपाल श्री चौहान ने दिवंगत आत्मा की चिरशांति तथा उनके शोक संतप्त परिजनों को धैर्य-धारण की क्षमता प्रदान करने के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है।