नई दिल्ली
जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) में चल रहे छात्रों प्रदर्शन के बीच स्वामी विवेकानंद की एक मूर्ति के साथ छेड़छाड़ की गई है। प्रतिमा के आसपास बीजेपी के लिए अपशब्द लिखे हुए। प्रतिमा का अनावरण अभी नहीं किया गया है। यह हरकत किसने की है इसका पता नहीं चल पाया है। वहीं, घटना की जानकारी सामने आने के बाद उस स्थान को साफ कर दिया गया है।

उधर, छात्र इकाई एनएसयूआई ने दावा किया है कि यह काम जेएनयू के स्टूडेंट्स नहीं कर सकते। एनएसयूआई के सनी धीमान ने कहा, 'हम इस घटना की निंदा करते हैं। जेएनयू कैम्पस में विवेकानंद की प्रतिमा से तोड़-फोड़ नहीं की गई है, कुछ लोगों ने इसके प्लैटफॉर्म पर लिख दिया है। मुझे नहीं लगता कि जेएनयू के किसी स्टूडेंट ने ऐसा किया होगा। अब हमने इसे साफ कर दिया है।'

बता दें कि जेएनयू में फिलहाल बड़ी फीस के खिलाफ प्रदर्शन चल रहा है। छात्र विभिन्न चार्ज और नियमों में बदलाव के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। बता दें कि बुधवार शाम को फीस में वृद्धि आंशिक रूप से वापस ले ली गई और जेएनयू प्रशासन ने कहा कि छात्रावास नियमावली से ड्रेस कोड और आने-जाने के समय से जुड़े उपबंध भी हटा दिए गए हैं। बावजूद इसके छात्र प्रदर्शन कर रहे हैं।

वीसी ऑफिस की दीवारें रंग दीं
जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) के छात्र यूनिवर्सिटी प्रशासन के खिलाफ अपना गुस्सा कुछ अलग अंदाज में जाहिर कर रहे हैं। इसमें छात्रों द्वारा बुधवार को प्रशासनिक ब्लॉक की दीवारों को रंग दिया गया। इसमें वीसी एम जगदीश कुमार के ऑफिस को भी नहीं छोड़ा गया। ब्लॉक के तीनों फ्लोर की लगभग सभी दीवारों पर तरह-तरह के नारे लिखे हुए दिखे।