बाजार में सोया से जुड़े कई तरह के फूड प्रॉडक्‍ट मिलने लगे हैं जैसे सोया मिल्‍क, सोया प्रोटीन, सोया चंक और भी बहुत कुछ। जिम जाने वाले लोग और हेल्‍थ फ्रीक्‍स प्रोटीन सप्‍लीमेंट्स के तौर पर डाइट में सोयाबीन खाना ज्‍यादा प्रिफर करते हैं। कुछ लोग तो इसे रोजाना खाना पसंद करते हैं। लेकिन एमिनो एसिड, कैल्शियम और फाइबर से भरपूर सोयाबीन कई लोगों के लिए नुकसानदायक भी हो सकता है। हाइपरटेंशन से लेकर किडनी तक की बीमारियों को सोयाबीन बढ़ा सकता है। जिस तरह से कुछ लोगों को गेंहू से एलर्जी होती है यानी ग्‍लूटेन एलर्जी से होने वाली एलर्जी की तुलना में ज्‍यादा होती है।

जिन लोगों को सोयाबीन से एलर्जी हो, वे इसके सेवन से बचें। इसके अलावा अगर किसी को किडनी संबंधी समस्या या डायबिटीज है तो उन्‍हें भी सोयाबीन के अत्यधिक सेवन से बचें। स्तनपान कराने वाली महिलाओं को ज्यादा सोयाबीन खान से मितली और चक्कर आ सकते हैं। सोयाबीन के सेवन को लेकर डॉक्टर या फिर न्यूट्रिशनिस्ट से जरूरी सलाह लें।

दिल की बीमारी
दिल के मरीजों के लिए सोयाबनी नुकसानदेह साबित हो सकता है, इसलिए उन्हें इसका सेवन करने से परहेज करना चाहिए। एक अध्ययन के अनुसार, इसमें ट्रांसफैट होता, जिसे दिल के लिए अच्छा नहीं माना जाता है।

हाइपरटेंशन
अगर आप हाइपरटेंशन यानी हाई ब्लड प्रेशर के मरीज हैं तो सोयाबीन का सेवन न करने में ही आपकी भलाई है, क्योंकि सोयाबीन हाइपरटेंशन को बढ़ाने का काम करता है।

प्रेगनेंसी
गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिलाओं को सोयाबीन से परहेज करना चाहिए। विशेषज्ञों के अनुसार, सोयाबीन में कुछ एमिनो एसिड्स होते हैं जो बच्चे की नॉर्मल ग्रोथ को रोकने का काम करते हैं। इसलिए प्रेग्नेंट महिलाओं को इसे अवॉइड करना चाहिए।

किडनी
किडनी का काम प्रोटीन को फिल्टर करना भी होता है और सोयाबीन में भरपूर मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है। ऐसे में जिन लोगों को किडनी से संबधित कोई भी बीमारी है उन्हें सोयाबीन नहीं खाना चाहिए। यह किडनी स्टोन की संभावना को भी बढ़ा देता है।

थायरॉइड
सोयाबीन में पाए जाने वाले कुछ एमिनो एसिड हार्मोन को प्रभावित करते हैं। सोयाबीन थायरॉइड से जुड़े थायरॉक्सिन हार्मोन को कम या ज्यादा करता है। इससे थायरॉइड बढ़ता है। ऐसे में इसके मरीजों को सोयाबीन से दूरी बनाकर रखना चाहिए।

कैंसर
जिन लोगों को यूरिन यानी मूत्राशय कैंसर है उन्हें सोयाबीन का सेवन नहीं करना चाहिए। अगर किसी के पारिवारिक इतिहास में यूरिन कैंसर की शिकायत रही हो तो उनके परिवार के सदस्यों को भी इससे परहेज करना चाहिए, क्योंकि यह मूत्राशय कैंसर के खतरे को बढ़ाता है।

डायबिटीज
अगर आपको डायबिटीज है और आप इसके लिए दवाइयों का सेवन कर रहे हैं तो अपने डायट से सोयाबीन या सोया प्रोडक्ट्स को बाहर कर दीजिए। इसके अलावा परिवार में अगर किसी को पहले से डायबिटीज रह चुका है तो ऐसे में परिवार के अन्य सदस्यों को भी इसका सेवन नहीं करना चाहिए।