अगर आप भी करवा चौथ का व्रत पूरी श्रद्धा से रखती है और चाहती है आपके व्रत रखने से आपके वैवाहिक जीवन और घर-परिवार में भी सुख-शांति बनी रहे तो पूजा के वक्त वास्तु से जुड़ी निम्न बातों और दिशाओं की स्थिति का मूलरूप से ध्यान रखें ।

1. सरगी अर्थात व्रत के समय का खाना खाते समय दक्षिण-पूर्व दिशा की ओर मुंह करके बैठें। जिससे आपको सकारात्मक ऊर्जा मिलेगी, जो व्रत में आपके लिए मददगार साबित होगी।

2. करवा चौथ को दोपहर का समय दक्षिण-पूर्व दिशा में बिताना सबसे अच्छा माना जाता है, क्योंकि इस समय इस दिशा का तत्व अग्नि होता है इसलिए यह समय अपने परिवार और दोस्तों के साथ बिताएं।

3. कथा के बाद शेष समय अपने पति के साथ दक्षिण पश्चिम दिशा में समय बिताएं। इससे आप और आपके पति के संबंधों में प्यार बढ़ेगा।

4. करवा चौथ के व्रत के समय जब चंद्रमा को जल चढ़ाए तो ध्यान रखें कि आपकी दिशा उत्तर-पश्चिम हो ।

5. करवा चौथ की पूजा करते समय आपका मुंह उत्तर-पूर्व या पूर्व दिशा की ओर हो तो इससे पूजा और व्रत दोनों का ही फल जरूर मिलता है।

6.करवा चौथ की पूजा के लिए घर में बने मंदिर या हॉल का ही प्रयोग करें।