छिबरामऊ (कन्नौज) 
कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने झांसी एनकाउंटर पर कहा कि सपा के पूर्व मुख्यमंत्री अभी भी अपराधियों का ही पक्ष ले रहे हैं। उन्हें चाहिए कि वह जनहित के मुद्दों को उठाएं। मौर्य ने दावा किया, जब से केंद्र व प्रदेश में भाजपा सरकार आई है, तब से लगातार अपराध का ग्राफ कम हुआ है।

मुख्यमंत्री का सीधा फरमान है कि अपराधियों को सलाखों के पीछे पहुंचाया जाए। झांसी एनकाउंटर के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि बेवजह पूर्व सीएम इस मामले को तूल दे रहे हैं। इससे साबित होता है कि पहले भी सपा सरकार अपराधियों का पक्ष लेती थी और अभी भी यही कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि विपक्षी पार्टियों के पास कोई मुद्दा नहीं बचा है।

अखिलेश का नाम लिए बगैर मौर्य ने कहा, उन्हें चाहिए कि वह जनहित के मुद्दों को लेकर आएं। सरकार के विकास कार्यों का बखान करते हुए कहा कि आज प्रधानमंत्री मोदी के विदेशों में भी लोग कायल हैं। अयोध्या में राममंदिर के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि लोगों को इस पर राजनीति नहीं करनी चाहिए और न्यायपालिका के फैसले का इंतजार करना चाहिए।
 
उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पुष्पेंद्र एनकाउंटर मामले में गुरुवार को कहा कि वह सरकार को जगाने की कोशिश कर रहे हैं, पुष्पेंद्र के परिवार के साथ अन्याय हुआ है। उन्होंने दोहराया कि सरकार का रवैया ठीक नहीं है, पूरा झांसी सच जानता है और यह सरकार दोषियों को बचा रही है। उन्होंने कहा कि पुष्पेंद्र का परिवार न्याय चाहता है, प्रशासन का निष्पक्ष होना जरूरी है। पूर्व सीएम ने एनकाउंटर को फेक करार दिया और कहा कि पुष्पेंद्र की हत्या की गई है। उन्होंने कहा कि यूपी में कानून का नहीं बल्कि जंगलराज है। आम जनता को दुखी किया जा रहा है। अखिलेश ने कहा कि कोई भी सरकार हमेशा नहीं बनी रहती है। उन्होंने पुष्पेंद्र मामले की जांच हाईकोर्ट के सिटिंग जज से कराने की मांग की। बुधवार रात पुष्पेंद्र के गांव से लौट कर पूर्व सीएम झांसी में रुके और सुबह मीडिया से मुखातिब हुए।