नई दिल्ली 
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह हाल ही फ्रांस से भारत का पहला राफेल विमान लेकर लौटे हैं।  ऐसे में उन्होंने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को आतंकवाद पर सलाह दी है। राजनाथ ने कहा कि "मैं पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को एक सुझाव देना चाहता हूं। यदि आप आतंकवाद के खिलाफ लड़ने के लिए गंभीर हैं तो हम आपकी सहायता करेंगे। यदि आप हमारी सेना चाहते हैं तो हम उन्हें आपकी मदद के लिए भेज देंगे।" राजनाथ करनाल में एक चुनावी रैली को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने आगे कहा कि "मैं इमरान खान का भाषण सुन रहा था, जहां उन्होंने कहा था कि जब तक कश्मीर को आजादी नहीं मिल जाती हम इस पर अपनी लड़ाई जारी रखेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि उनका देश कश्मीर के मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय मंचों पर उठाता रहेगा। मकश्मीर के बारे में भूल जाओ। इसके बारे में भी मत सोचो। कोई भी हम पर दबाव नहीं डाल सकता है।'' राजनाथ ने कहा कि ''आपने 1947 में भारत को दो-राष्ट्र सिद्धांत के भाग के रूप में दो भागों में विभाजित किया, लेकिन 1971 में, आपका देश फिर से दो टुकड़ों में विभाजित हो गया। और अगर यही स्थिति बनी रहती है, तो कोई भी शक्ति पाकिस्तान को आगे टूटने से नहीं रोक सकती है।” 

वहीं फ्रांस में राफेल की शस्त्र पूजा को लेकर उठ रहे सवाल पर राजनाथ ने कहा कि- मैं आप लोगों से पूछता हूं कि क्या आपके घरों में ऊं नहीं लिखा जाता, क्या सिख एक ओंकार नहीं कहते, क्या मुस्लिम आमीन नहीं कहते। इसमें क्या गलत है, लेकिन कांग्रेस लोग इसे सांप्रदायिक बता रहे हैं। मेरा जन्म एक साधारण परिवार में हुआ। हमारे यहां शुभ काम से पहले पूजा पाठ की पद्धति है। किसी भी चीज का प्रयोग करने से पहले पूजा करनी चाहिए। मैंने पहले ऊं लिखा, नारियल फोड़ा और फिर रक्षा सूत्र बांधा। इसमें क्या गलत है।'