भोपाल
मप्र विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद (मैपकास्ट) ने प्रदेश के 625 स्कूली विद्यार्थियों को देश के राष्ट्रीय स्तर के पांच राष्टÑीय स्तर के विज्ञान संस्थानों और प्रयोगशालाओं का निरिक्षण कराने के पांच टीमें रवाना कर रहा है। विज्ञान यात्रा में शामिल विद्यार्थियों की वापसी के बाद परीक्षा होगी। इसमें टाप 100 विद्यार्थियों को आजीवन पीएचडी करने तक की स्कालरशिप दी जाएगी।

विज्ञान यात्राा में शामिल विद्यार्थियों को इसरो सहित अन्य चार संस्थानों में पहुंचकर वहां कार्यरत वैज्ञानिकों और अधिकारियों से वैज्ञानिक संबंधी जानकारी मिलेगी, जिससे वे भविष्य में अपनी कई समस्याओं का निराकरण कर विज्ञान के क्षेत्र में कार्य कर पाएंगे। निरीक्षण में आठवीं से 12वीं तक के विद्यार्थियों को शामिल किया गया है। इसमें 12वीं विद्यार्थी को हैदराबाद, 11 वीं के विद्यार्थियों को चंडीगढ़ भेजा गया है। वहीं दसवीं के विद्यार्थियों को अहमदाबाद, नवमीं केविद्यार्थियों को लखनऊ और आठवीं के विद्यार्थियों को दिल्ली भेजा गया है। हरेक टीम में 11 शिक्षक और चार का स्टाफ भेजा गया है।

बीस अक्टूबर को होगी परीक्षा
पाचों टीमें वापस आने के बाद सभी 625 विद्यार्थियों की लिखित परीक्षा बीस अक्टूबर को कोपल स्कूल में आयोजित कराई जाएगी। इसमें पास होने वाले कर टाप 100 विद्यार्थियों को आगामी पढ़ाई से लेकर पीएचडी करने तक आजीवन के लिए पीएचडी करने तक मैपकास्ट की तरफ से स्कालरशिप दी जाएगी।

यहां होगा टीमों का भ्रमण
हैदराबाद गई टीम इसरो, डीआरडीओ का भ्रमण करेगी। वहीं लखनऊ की टीमें सीबीआरआई, दिल्ली की टीम नेहरू तारामंडल और आईआईटी, अहमदाबाद की टीम इसरो, साइंस सिटी और एनपीएल तथा चडीगढ़ की टीम नेशनल सेमिकंडेक्टर लिमिटेड के अलावा पंजाब इंजीनियरिंग कालेज का भ्रमण करेंगी। यहां वे वैज्ञानिक कल्पना चावाल के वैज्ञानिक होने जानकारी लेंगी।

वर्जन
दो टीमें कल और आज तीन टीमें रवाना हो रही हैं। टीमों की वापसी के बाद सभी विद्यार्थियों की परीक्षा ली जाएगी। इसमें टाप 100 विद्यार्थियों को आजीवन पीएचडी करने तक पूरी स्कालरशिप दी जाएगी।
राकेश आर्या
महानिदेकशक, मैपकास्ट