Close X
Thursday, August 16th, 2018

देशभर में समान आरक्षण लागू करने का प्राइवेट मेंबर प्रस्ताव राज्यसभा में गिरा

नई दिल्ली 

प्राइवेट मेंबर कामकाज का वक्त खत्म हुआ. उपसभापति ने केंद्रीय कॉरपोरेट मामलों के राज्य मंत्री पीपी चौधरी को इंसॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी (दूसरा संशोधन) विधेयक पारित पेश करने के लिए कहा. मंत्री सदन के भीतर बिल पर चर्चा की शुरुवात कर रहे हैं.   विधवाओं से जुड़े प्राइवेट मेंबर प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान द्रौपदी का उदाहरण देते हुए सपा सांसद रवि प्रकाश वर्मा ने जब उस वक्त द्रौपदी ने अपने अस्तित्व से जुड़ा सवाल पूछा था, तब भी उसका जवाब नहीं मिल पाया था. महिलाओं को क्यों पुरुषों के बराबर दर्जा क्यों नहीं दिया जा सकता. महिलाओं की सेवाओं का आर्थिक मूल्यांकन कर उसे जीडीपी में क्यों नहीं जोड़ा जाना चाहिए. 
 कांग्रेस सांसद अमी याज्ञिक ने विधवाओं से जुड़े प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान कहा कि सामाजिक सुरक्षा के लिए विधावाओं की स्थिति में सुधार की जरूर है. उन्हें हमेशा पेंशन जैसी बुनियादी सुविधाओं के लिए संघर्ष करना पड़ता है और सरकार से मेरी मांग है कि ऐसे मामलों के लिए कोई नया कानून लेकर आए ताकि विधवाओं की स्थिति में सुधार लाया जा सके. 
  डीएमके सांसद तिरुची शिवा ने राज्यसभा में देशभर में विधवाओं की स्थिति से जुड़ा प्रस्ताव सदन में रखा. उन्होंने समाज में विधवाओं के स्थिति में सुधार पर जोर दिया. 
  केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि अच्छा होता कि यह लोग तीन तलाक के साथ इस तरह खड़े होते. इनको बेटियों के पक्ष में खड़ा होता चाहिए, जिसका यह लोग विरोध कर रहे हैं. 
 देशभर में समान आरक्षण लाने का प्रस्ताव गिराराज्यसभा में सपा सांसद विशम्भर प्रसाद की ओर से लाए गए संकल्प पर वोटिंग कराई गई. इस प्रस्ताव के समर्थन में 32 और विरोध में 66 वोट पड़े. सदन में कुल 98 सदस्य मौजूद थे. सदन में सरकार के खिलाफ दलित विरोधी होने के नारे लग रहे हैं. 
प्राइवेट मेंबर प्रस्ताव पर राज्यसभा में वोटिंगराज्यसभा में सपा के सांसद विशम्भर प्रसाद निषाद की ओर से लाए गए प्राइवेट संकल्प पर वोटिंग कराई जा रही है. इस बिल में पूरे देश में एक समान आरक्षण व्यवस्था लागू करने की बात कही गई है. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि संकल्प पर कभी वोटिंग नहीं हुई लेकिन आज नई परंपरा डाली जा रही है. उपसभापति हरिवंश ने कहा कि एक बार कहने के बाद वोटिंग करानी ही पड़ती है उसे वापस लेने का कोई नियम नहीं है. लोकसभा की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगितलोकसभा में स्पीकर सुमित्रा महाजन ने कहा कि सदन में कुल 17 बैठकें हुईं और 112 घंटे तक कामकाज हुआ. उन्होंने बताया कि सदन में 22 सरकारी विधेयक पेश किए गए जिनमें से 21 विधेयकों को मंजूरी दी गई. साथ ही स्पीकर ने कहा कि बजट सत्र की अपेक्षा इस सत्र में कामकाज काफी बेहतर और संतोषजनक रहा. सदन में राष्ट्र गीत की धुन बजने लगी, सभी सांसद सीट से खड़े हो गए हैं. लोकसभा की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी गई. 

Source : Agency

संबंधित ख़बरें

आपकी राय

13 + 6 =

पाठको की राय