न्यूयॉर्क

उत्तरी सीरिया में तुर्की के मिलिट्री ऐक्शन और नागरिकों को निशाना बनाए जाने पर चिंता जताते हुए अमेरिका ने अब उस पर आर्थिक प्रतिबंध लगाए जाने की धमकी दी है। अमेरिकी विदेश मंत्री स्टीवन न्यूचिन ने कहा है कि प्रेजिडेंट डॉनल्ड ट्रंप जल्दी ही एक ऐसे आदेश पर साइन करने वाले हैं, जिससे वित्त मंत्रालय तुर्की पर प्रतिबंध लगा सकेगा। उन्होंने कहा कि हम तुर्की सरकार और उससे जुड़े किसी भी संस्थान या व्यक्ति के साथ आर्थिक गतिविधियों पर बैन लगाएंगे।

उन्होंने कहा कि ये प्राइमरी और सेकंडरी दोनों तरह के प्रतिबंध होंगे। तुर्की को हिदायत देते हुए न्यूचिन ने कहा कि प्रेजिडेंट ट्रंप सीरिया में नागरिकों को निशाना बनाए जाने, नागरिक प्रतिष्ठानों को ध्वस्त करने वाले हमलों को लेकर चिंतित हैं। अमेरिकी मंत्री ने कहा कि इसके जरिए सीरिया में धार्मिक अल्पसंख्यकों को टारगेट किया जा रहा है।

तुर्की के राष्ट्रपति की चेतावनी- बिना वॉर्न किए किसी भी रात आ सकते हैं
उन्होंने कहा कि प्रेजिडेंट यह स्पष्ट करना चाहते हैं कि तुर्की के ऐक्शन में एक भी आईएस आतंकी भाग न सके। हालांकि न्यूचिन ने यह भी कहा कि फिलहाल तुर्की पर किसी तरह के प्रतिबंध लागू नहीं है। उन्होंने कहा, 'इस वक्त हम कोई प्रतिबंध नहीं लगा रहे हैं। लेकिन, जैसा कि राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि वह जल्दी ही किसी ऐसे आदेश को जारी कर सकते हैं।'

तुर्की के राष्ट्रपति अड़े, कहा- कदम पीछे नहीं हटाएंगे
इस बीच तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन ने कहा कि वह उत्तरी सीरिया में कुर्द लड़ाकों के खिलाफ अपने ऑपरेशन को नहीं रोकेंगे। इसके साथ ही उन्होंने अमेरिका समेत कई अन्य देशों की चेतावनियों को भी नजरअंदाज किया। इस्ताम्बुल में एक स्पीच में एर्दोआन ने कहा, 'कोई कुछ भी कहे, लेकिन हमने जो कदम उठाया है, उस पर पीछे नहीं हटेंगे।' एर्दोआन ने हमले को जारी रखने की बात करते हुए कहा कि कोई दाईं और बाईं, दोनों तरफ से तमाम तरह की चेतावनियां आ रही हैं। हम अपने कदम पीछे नहीं हटाएंगे, जब तक कि आतंकियों को हम अपनी सीमा से 32 किलोमीटर पीछे तक नहीं धकेलते हैं।