पुणे
भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली इस बात से खुश है कि टीम के खिलाड़ियों ने ‘निस्वार्थ रवैया’ अपनाया है और ‘उनकी सोच में लचीलापन’ है जिससे तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी के खेल में बदलाव आया और कुलदीप यादव को पता है कि वह टीम से क्यों बाहर हुए है।
कभी चोटों से परेशान रहने वाले शमी ने सपाट पिच पर धारदार गेंदबाजी की जिससे कप्तान काफी प्रभावित है। कोहली ने दूसरे टेस्ट की पूर्व संध्या पर बुधवार को यहां कहा, ‘अब (वह) अधिक जिम्मेदारी के साथ खेल रहे हैं। हमें अब कुछ बताने की जरूरत नहीं होती। हमें अब यह कहने की जरूरत नहीं होती आपको हमारे लिए यह स्पैल डालना होगा। जब उन्हें गेंद सौपी जाती है तब वह मैच की परिस्थिति को अच्छे से समझते हैं।’

शमी जहां पूरी तरह लय में है वही युवा चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यह सोच रहे होंगे कि अपने पिछले टेस्ट (ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सिडनी में) में पांच विकेट लेने के बाद भी वह टीम से बाहर क्यों हैं। कप्तान ने हालांकि कहा कि कुलदीप को पता है कि उन्हें अंतिम 11 में जगह क्यों नहीं मिली।

उन्होंने कहा, ‘टीम में कोई भी स्वार्थी नहीं है और हर कोई यह सोचता है कि वह टीम के लिए क्या कर सकता है। कुलदीप के बारे में भी ऐसा ही है। वह समझता है कि भारत में खेलते समय अश्विन और जडेजा हमारी पहली पसंद होंगे क्योंकि वे बल्ले से भी योगदान देने में सक्षम हैं।’

पिछले कुछ वर्षों में भारतीय टीम प्रबंधन ने टेस्ट मैचों में अक्सर अपने संयोजन में बदलाव किया है और कप्तान कोहली से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि अगर आप नतीजे देखेंगे तो समझ जाएंगे कि ऐसा क्यों किया गया है।

कोहली ने कहा, ‘हम पिछले दो साल से जो कर (टीम संयोजन को लेकर) रहे है उसके बारे में काफी चर्चा हो रही है। हमारा सिर्फ एक मकसद होता है जोकि ज्यादा से ज्यादा मैच जीतने का है। हम ऐसा करने में कामयाब रहे है।’