जबलपुर
जबलपुर गन कैरेज फैक्ट्री (Gun Carriage Factory) में बनी और यहां के सेंट्रल ऑर्डिनेंस डिपो (Central Ordinance Depot) से चोरी की गई एके-47 (AK-47) के मामले में जबलपुर पुलिस ने आरोपियों को ट्रांजिट रिमांड पर लेने का फैसला किया है. पुलिस इस मामले की तह तक पहुंचने के लिए आरोपियों से और पूछताछ करना चाहती है. इससे मामले में कुछ और नए खुलासे हो सकते हैं. कुछ महीने पहले बिहार के मुंगेर से निर्दलीय विधायक अनंत कुमार सिंह (MLA Anant Singh) के घर से पुलिस ने ये हथियार बरामद किए थे. तब हथियार तस्करी मामले का खुलासा हुआ था. जबलपुर के एसपी अमित सिंह ने बिहार (Bihar) के मुंगेर जेल अधीक्षक (Munger Jail Superintendent) से इस मामले में पकड़े गए 9 आरोपियों के संबंध में जानकारी मांगी है.

जबलपुर के एसपी अमित सिंह के मुताबिक पुलिस एके-47 तस्करी मामले की जांच को अंजाम तक पहुंचाना चाहती है. मामले को लेकर बताया गया कि जबलपुर की फैक्ट्री में काम करने वाले स्टोर मैनेजर सुरेश ठाकुर और आर्मरर पुरुषोत्तम रजक ने ये एके-47 बेची थी. एसपी ने बताया कि सुरेश ठाकुर चूंकि स्टोर मैनेजर था, इसलिए वह एके-47 के कल-पुर्जे आसानी से फैक्ट्री से बाहर लाने में सफल हो जाता था. वहीं, पुरुषोत्तम रजक तीन-चार बंदूकों के सही पुर्जों को जोड़कर नई एके-47 बना देता था. इस हथियार को 2 लाख रुपए में बेचा जाता था. मामले का खुलासा होने के बाद जबलपुर पुलिस ने दोनों को हिरासत में लेकर पूछताछ की थी. वहीं मुंगेर पुलिस ने भी मामले की जांच के लिए सुरेश और पुरुषोत्तम को रिमांड पर लिया था.

एके-47 हथियार तस्करी के मामले में अभी सुरेश और पुरुषोत्तम समेत सभी 9 आरोपी मुंगेर जेल में बंद हैं. जबलपुर पुलिस इन सभी आरोपियों को ट्रांजिट रिमांड पर लाकर पूछताछ करना चाहती है. इसी बाबत जबलपुर पुलिस ने मुंगेर के जेल अधीक्षक से आरोपियों के बारे में जानकारी मांगी है. जानकारी मिलने के बाद पुलिस जबलपुर सेशन कोर्ट में आवेदन देकर इन आरोपियों को ट्रांजिट रिमांड पर लेने की अपील करेगी. एसपी अमित सिंह ने कहा कि लंबे समय से सुस्त पड़ी जांच में तेजी लाने के लिए पुलिस मामले की सभी अधूरी कड़ियों को जोड़कर जल्द से जल्द अंजाम तक पहुंचने की कोशिश कर रही है.