भोपाल

अंतर्राष्ट्रीय क्लीनिकल न्यूट्रीशन सम्मेलन में विशेषज्ञों द्वारा बताये गये उपायों के व्यापक प्रचार-प्रसार की जरूरत है। सम्मेलन के निष्कर्षों को विभिन्न भाषाओं में व्यापक रूप से प्रचारित-प्रसारित करने की जरूरत है।  सिलावट आज इंदौर में 11वीं अपोलो इंटरनेशनल क्लीनिकल न्यूट्रीशन अपडेट कॉन्फ्रेंस को सम्बोधित कर रहे थे। कान्फ्रेन्स में दुबई, यूएसए, यूके, मलेशिया सहित 10 देशों और नई दिल्ली, बैंगलुरू, कोलकाता, मुंबई, चैन्नई के विशेषज्ञों ने लगभग 75 रिसर्च पेपर पढ़े।

मंत्री  सिलावट ने कहा कि हम सभी को यह पता है कि स्वस्थ शरीर के लिये संतुलित पोषण आहार जरूरी है। फास्ट फूड की दुनिया में संतुलित आहार को लोग भूल गये हैं। इसके लिये लोगों में जागरूकता जरूरी है। आज जैविक खेती की महती आवश्यकता है। हमें आधुनिक कृषि और खाद प्रणाली को पोषण की दृष्टि से संवेदनशील और जनोपयोगी बनाना जरूरी है।

कान्फ्रेंस में स्वास्थ्य मंत्री ने मिलावट के खिलाफ मुहिम जारी रखने की अपील की। उन्होंने उपस्थित अतिथियों और श्रोताओं को शुद्ध आहार खाने, शुद्ध आहार खरीदने और शुद्ध आहार के लिये काम करने की शपथ दिलायी।