लंदन
ब्रिटेन की 178 साल पुरानी ट्रैवल कंपनी थॉमस कुक ने कारोबार बंद करने की घोषणा कर दी है। आर्थिक संकट से जूझ रही कंपनी ने निजी निवेश और सरकार से बेलआउट पैकेज प्राप्त करने में असफलता के बाद कहा है कि तत्काल प्रभाव से कंपनी ने अपने कारोबार को बंद करने का फैसला किया है। कंपनी ने सभी हॉलिडेज, फ्लाइट बुकिंग को रद्द किए जाने की घोषणा की है। कंपनी ने दुनियाभर के ग्राहकों के लिए सहायता नंबर +44 1753 330 330 जारी किया है।

कंपनी के अचानक बंद होने से छुट्टियां मनाने घर से निकले करीब 1.50 लाख लोग जहां-तहां फंस गए हैं। दुनियाभर में इसके 22 हजार कर्मचारियों की नौकरी भी संकट में आ गई है। इनमें से 9000 कर्मचारी ब्रिटेन में हैं।

कंपनी ने शुक्रवार को कहा था कि कारोबार जारी रखने के लिए उसे 25 करोड़ अमेरिकी डॉलर की जरूरत है, जबकि पिछले महीने कंपनी 90 करोड़ पाउंड हासिल करने में कामयाब रही थी। निजी निवेश जुटाने में असफल रही कंपनी को सरकार के हस्तक्षेप से ही बचाया जा सकता था।


थॉमस कुक ने 1841 के ट्रैवल इंडसट्री में कदम रखते हुए कंपनी की स्थापना की थी। वह ब्रिटेन के शहरों के बीच टेंपरेंस सपॉर्टर्स को ट्रेन के जरिए पहुंचाता था। जल्द कंपनी विदेशी ट्रिप्स कराने लगी। 1855 में कंपनी पहली ऐसी ऑपरेटर बनी जो ब्रिटिश यात्रियों को एस्कॉर्ट ट्रिप पर यूरोपीय देशों में ले जाती थी। इसके बाद 1866 में कंपनी अमेरिका ट्रिप सर्विस देने लगी और 1872 में पूरी दुनिया के टूर सर्विस देने लगी।

भारत में भी असर?
थॉमस कुक इंडिया की ओर से शनिवार को कहा गया कि यह ब्रिटेन बेस्ड थॉमस कुक पीएलसी से संबंधित नहीं है। कंपनी ने जोर देकर कहा कि थॉमस कुक इंडिया पूरी तरह अलग एंटिटी है, जिसका स्वामित्व कनाडा की फेयरफैक्स फाइनैंशल होल्डिंग्स के पास है। ब्रिटेन की कंपनी थॉमस कुक पीएलसी के बंद होने का भारतीय कंपनी पर असर नहीं होगा। गौरतलब है कि 2012 में थॉमस कुक यूके ने थॉमस कुक इंडिया की हिस्सेदारी फेयरफैक्स को बेच दी थी।