पीलीभीत 
शादी के बाद घर आई युवती को उसके परिजनों ने 70 दिनों तक घर में बंधक बनाकर रखा। बीती रात युवती किसी तरह परिजनों के चंगुल से छूटकर घर से भाग गई।  शाहजहांपुर निवासी अपने पति को बुलाया। इस दौरान युवती के परिजनों ने तलाश करते हुए युवती को दोबारा पकड़ लिया। सूचना पर पहुंची पुलिस युवती को अपने साथ ले आई। देर रात हाईकोर्ट के कागजात और अन्य साक्ष्यों के बाद युवती को उसके पति के सुपुर्द कर दिया है। 

थाना अमरिया क्षेत्र निवासी युवक शहर कोतवाली क्षेत्र के सिविल लाइन में अपना मकान बनाकर रह रहा है। उसकी 25 वर्षीय पुत्री का निकाह मोहल्ला अशरफ खां निवासी एक युवक से 25 मई 2018 को हुआ था। निकाह के कुछ समय बाद उसका पति उसको छोड़कर दुबई चला गया था, जिसके बाद युवती का अपने पति से तलाक हो गया ।

इसके बाद युवती पूरनपुर के एक कॉलेज से बीटीसी का कोर्स कर रही थी। यहां पर उसकी जानपहचान शाहजहांपुर के बंडा निवासी एक युवक से हुई थी। वह युवक भी बीटीसी का कोर्स कर रहा था। जानपहचान के बाद दोनों में प्रेम हो गया।  28 फरवरी 2019 को युवती पीलीभीत से पूरनपुर जाने के लिए निकली और वापस नहीं आई। इसके बाद उसके परिजनों ने पहले तो तलाश की।

कोई सुराग न होने पर 12 मार्च को युवती के पिता ने थाना सुनगढ़ी में युवती के लापता होने की गुमशुदगी दर्ज कराई। युवती ने अपने प्रेमी के साथ उच्च न्यायालय जाकर विवाह कर लिया। 10 मार्च 2019 को युवती अपने पिता के पास पीलीभीत आई। युवती का आरोप है कि इसके बाद उसको परिजनों ने बंधक बना लिया और घर से नहीं निकलने दिया। शनिवार रात में मौका पाकर युवती अपने घर से निकल गई और अपने पति को फोन करके बुला लिया।