इस्लामाबाद

जम्मू-कश्मीर से भारत द्वारा आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के विमान को अपने एयरस्पेस से रास्ता देने से इनकार करने के बाद अब उसने पीएम नरेंद्र मोदी के प्लेन को भी अपने हवाई क्षेत्र से नहीं गुजरने देने की बात कही है। दरअसल, कश्मीर के मुद्दे पर पूरी दुनिया में अलग-थलग पड़ा पाकिस्तान अब प्रॉपगैंडा पर उतर आया है। भारत ने पाकिस्तान के इस कदम पर नाराजगी व्यक्त करते हुए उसे ऐसी हरकतों से बाज आने को कहा है।  पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी का कहना है कि उन्होंने इस फैसले से भारत को अवगत करवा दिया है। कुरैशी ने कहा कि उन्होंने खुद पाकिस्तान स्थित भारतीय उच्चायोग को इसकी जानकारी दी।
 
भारत ने जताया विरोध
पीएम मोदी के प्लेन को एयरस्पेस नहीं देने पर भारत ने प्रतिक्रिया देते हुए इसपर विरोध जताया है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, 'पाकिस्तान सरकार ने एक सप्ताह में दूसरी बार वीवीआईपी स्पेशल फ्लाइट्स को रास्ता देने से इनकार किया है। पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय कायदों का पालन करना चाहिए और अपने ऐसे एकपक्षीय फैसले लेने की पुरानी आदत से बाज आना चाहिए।'

पीएम मोदी 21 सितंबर को US के लिए रवाना होंगे
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए 21 सितंबर को भारत से अमेरिका के लिए उड़ान भरने वाले हैं। इससे पहले पाकिस्तान ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को आइसलैंड जाने के लिए अपने एयरस्पेस के इस्तेमाल की अनुमति देने से इनकार कर दिया था। तब भी पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने ही बताया था कि भारत ने राष्ट्रपति कोविंद की आइसलैंड की फ्लाइट के लिए अनुमति मांगी थी, जिसे पाकिस्तान ने नामंजूर कर दिया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आइसलैंड, स्विट्जरलैंड और स्लोवेनिया की यात्रा पर गए थे।

पाकिस्तान का प्रॉपगैंडा जारी
पाकिस्तान ने भारतीय सेना के बालाकोट ऑपरेशन से बौखलाकर भारत आने-जाने वाले विमानों के लिए अपना एयर स्पेस बंद कर दिया था। हालांकि, उसने खजाने को बट्टा लगता देख कुछ दिनों के बाद खुद ही एयरस्पेस खोलने की सूचना भी दी थी। अब वह जम्मू-कश्मीर के लिए प्रभावी भारतीय संविधान के आर्टिकल 370 के कुछ प्रमुख प्रावधानों को निरस्त करने के बाद फिर से बौखलाया हुआ है। इस मुद्दे पर दुनियाभर से लगाई गई उसकी गुहार अनसुनी हो चुकी है।