मेनोपॉज के कारण महिलाओं के शरीर में हॉर्मोन्स में बदलाव होते हैं जिस कारण उन्हें अचानक कुछ नई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। हॉट फ्लैश और नाइट स्वेट भी इनमें से एक है। आमतौर पर हॉट फ्लैश मेनोपॉज के पहले शुरू होता है। इसमें अचानक से तेज गर्मी लगती है और पसीना आता है। हॉट फ्लैश कीमोथेरपी और ओवरी निकलवाने के लिए सर्जरी की वजह से भी हो सकता है।

एस्ट्रोजेन के बदलते लेवल के कारण हॉट फ्लैश और नाइट स्वेट्स होते हैं। जब आपके ब्लड वेसल्स फैल जाते हैं, आपको पूरे चेहरे पर गर्मी महसूस होती है और तेज पसीना आता है। कभी-कभी जब आप सो रही होती हैं तब भी ऐसा होता है। ऐसे में आपको खूब पसीना आता है। इसे नाइट स्वेट कहते हैं। मेनोपॉज के दौरान हॉट फ्लैश से बचा तो नहीं जा सकता है लेकिन कई तरीके हैं जिनसे आपको कुछ राहत मिल सकती है। आइए, आपको कुछ उपाय बताते हैं जिनसे आप इससे बच राहत पा सकती हैं।


-स्ट्रेस से बचें।

-कॉफी न पीएं।

-मसालेदार खाना कम से कम खाएं।

-ठंडे कमरे में रहें

-टाइट कपड़े न पहनें।

-वजन कम करने पर ध्यान दें।

-तंबाकू या शराब का सेवन न करें।

-कोई भी दवा बिना डॉक्टर की सलाह के न लें।