महोबा                                                    
पृथक बुंदेलखंड राज्य की मांग को लेकर पिछले 447 दिन से लगातार अनशन पर बैठे बुंदेली समाज के संयोजक तारा पाटकर ने आज अपने साथियों के साथ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 69वें जन्मदिन पर खून से खत लिख कर बधाई दी एवं अलग राज्य की मांग की।

तारा पाटकर ने बताया कि हम प्रधानमंत्री को बताना चाहते हैं कि बुंदेलखंड की जनता आपको कितना चाहती है। अगर आप यहां के लोगों के दिलों में न बसते होते तो बुंदेलखंड से बार-बार सभी सीटें भाजपा को न मिलतीं। हम लोगों ने प्रत्याशी नहीं देखे सिर्फ आपको देखा है। अब आपकी बारी है कि आप भी बुंदेलों की भावनाओं का सम्मान करें और जितनी जल्दी हो, बुंदेलखंड राज्य की घोषणा कर दें। बुंदेलखंड को बार-बार छला गया है। यहां की भाषा, संस्कृति और ऐतिहासिक विरासतों का लगातार गला घोंटा जा रहा है। बुंदेलखंड को सिर्फ खनन के नाम पर लूटा जा रहा है। अब इसे हम और बर्दाश्त नहीं कर सकते।

उन्होंने कहा कि भाजपा तो हमेशा से छोटे राज्यों की पक्षधर रही हैं। अगर ऐसा न होता तो पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी एकसाथ तीन नये राज्य न बनाते। तारा पाटकर के साथ बुंदेलखंड क्रांति दल के जिलाध्यक्ष दीपेन्द्र सिंह परिहार, हरीओम निषाद व खुर्शीद आलम ने भी प्रधानमंत्री को खून से खत लिखे और उनको जन्मदिन की बधाई दी। इस मौके पर सुरेश सोनी, कल्लू चौरसिया, प्रशांत गुप्ता बुंदेलखंडी, अनिरुद्ध मिश्र, केएस शुक्ला, कृष्णा शंकर जोशी, देवेंद्र तिवारी, अमरचंद विश्वकर्मा, कमलेश श्रीवास्तव समेत तमाम लोग मौजूद रहे।