नई दिल्ली 

इंग्लैंड के स्टार ऑलराउंडर बेन स्टोक्स को मंगलवार को उस वक्त गहरा झटका लगा, जब एक ब्रिटिश अखबार ने उनके परिवार की पिछली जिंदगी को दुनिया के सामने लाया. 28 साल के स्टोक्स ने ब्रिटिश अखबार की उस रिपोर्ट पर गहरी आपत्ति जताई है. रिपोर्ट में कहा गया है कि 31 साल पहले उनकी मां के पूर्व पति ने स्टोक्स के सौतेले भाई और बहन की हत्या कर दी थी.

बेन स्टोक्स ने मंगलवार को भावुक ट्वीट कर उस इंग्लिश न्यूज पेपर के रुख को बेहद गैर-जिम्मेदाराना करार दिया है. उन्होंने अपनी पोस्ट में लिखा, 'उस अखबार ने अपने रिपोर्टर को न्यूजीलैंड मेरे घर भेजकर परिवार की निजता पर हमला किया है. तीन दशक पहले हुए उस भयानक हादसे को भूलने में मेरे परिवार को वर्षों लग गए.'
 
यह रिपोर्ट कातिल सौतेले पिता रिचर्ड डन की 49 साल की बेटी जैकी डन के हवाले से लिखी गई है. रिचर्ड डन और मां डेब अलग रह रहे थे. दोनों के बीच विवाद चल रहा था. अप्रैल 1988 में स्टोक्स के जन्म से पहले सौतेले पिता (रचर्ड डन) ने उनकी आठ साल की सौतेली बहन ट्रेसी और चार साल के सौतेले भाई एंड्रयू को गोली मार दी थी.

जैकी डन के हवाले से लिखा गया, 'मुझे विश्‍वास नहीं होता मेरे पिता ऐसी चीज कर सकते हैं. ये बेहद डरावना है. डेब इस घटना के बाद सदमे में रही होंगी. मुझे सच में इस बारे में कोई जानकारी नहीं है कि उनका एक और बेटा है, जो इस वक्‍त इंग्‍लैंड में स्‍टार क्रिकेटर है.' मां डेब ने दूसरी शादी कर ली थी. बेन स्‍टोक्‍स के पिता रग्‍बी खिलाड़ी गेरार्ड स्टोक्स हैं.


स्टोक्स ने सोशल मीडिया पर लिखा, 'मेरे माता-पिता की निजता पर हमला किया गया, जो अस्वीकार्य है. किसी को यह हक नहीं है कि वह मेरे पारिवारिक सदस्यों की निजता पर हमला करे. स्टोक्स ने साथ ही लिखा कि यह पत्रकारिता का सबसे विकृत रूप है.'