ग्वालियर
पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं कांग्रेस के महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मीडिया और जनता से हाथ जोड़कर माफ़ी मांगी है  ग्वालियर में उन्होंने कहा कि यदि जाने अनजाने में अगर मुझसे कोई गलती हुई हो तो मुझे क्षमा कर देना । सिंधिया एक दिवसीय दौरे के मौके पर एक कार्यक्रम के दौरान पत्रकारों से बात कर रहे थे।

कांग्रेस महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया सोमवार को सुबह ग्वालियर पहुंचे। कार्यकर्ताओं ने उनका हमेशा की तरह जोरदार स्वागत किया। यहाँ सिंधिया ने कई कार्यक्रमों में हिस्सा लिया। वे चेंबर ऑफ कॉमर्स के सभागार में आयोजित क्षमावाणी पर्व में शामिल हुए। यहां उन्होंने कहा कि क्षमा का पर्व सबसे बड़ा पर्व है। इससे इंसान का कद बढ़ता है। मनुष्य गलती होने पर उसे स्वीकार नहीं करता, जबकि उसकी माफी मांगने से उसका कद बढ़ता है। जिनमें इंसानियत और मानवता होती है, वही क्षमा मांगते हैं। ये मूल मंत्र दुनिया के हर इंसान में होना चाहिए। इसी से विश्व का कल्याण संभव है। सिंधिया ने कहा कि पूरी दुनिया में जैन समाज में अद्भुत क्षमता है।  जैन समाज ने हर देश में अपनी पैठ  बनाई है। जैन समाज ने जियो और जीने दो का संदेश दिया है।जैन समाज में सबको साथ लेकर चलने की क्षमता है। क्षमा का संदेश दुनिया में वायरल करो। सिंधिया ने कहा कि भगवान ने हमें धरती पर देवता बनाकर नहीं गलती करने और उनसे सीखने भेजा है। मोक्ष पाने के लिए क्षमावाणी जीवन का अस्तित्व होना चाहिए। लेकिन हम अपनी आध्यात्मिक नींव को भूल जाते हैं।

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि जैन समाज क्षमावाणी पर्व को अपने धर्म, समाज तक सीमित न रखकर उसमें हर समाज को शामिल करे। क्षमावाणी को पूरी दुनिया में वायरल करो। क्षमा की सोच का जितना विस्तार होगा, विश्व का उतना अधिक कल्याण होगा। सिंधिया ने कार्यक्रम में देरी से पहुंचने के लिए क्षमा मांगते हुए कहा कि मेरे परिवार का जैन समाज से अति विशिष्ट संबंध रहा है। मेरे पिता 8 वर्ष की उम्र में मुझे पहली बार जैन मंदिर ले गए थे। मुझे हमेशा जैन मुनियों के आशीर्वाद मिलता रहा है। उन्होंने मीडिया और जनता से क्षमा मांगते हुए कहा कि यदि जाने अनजाने में मुझसे अगर कोई गलती हुई हो तो मुझे क्षमा कर देना। स्वागत भाषण कार्यक्रम संयोजक दिनेश जैन ने दिया। पंडित अजीत शास्त्री ने क्षमा पर्व का महत्व बताया। कार्यक्रम में खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, विधायक मुन्नालाल गोयल, चेंबर ऑफ कॉमर्स के मानसेवी सचिव डॉ प्रवीण अग्रवाल, हाईकोर्ट के पूर्व महाधिवक्ता आरडी जैन सहित कई गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।