नई दिल्ली 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मंगलवार यानि 17 सितंबर को 69वां जन्मदिन है। पीएम मोदी आज अपना 69वां बर्थडे अहमदाबाद में मना रहे हैं। पीएम मोदी अपने बर्थडे पर मां हीराबेन से आशीर्वाद लेकर अपने दिन की शुरुआत करेंगे। पीएम मोदी का पहला कार्यकाल जिस तरह से चर्चा में रहा, अब तक के 100 दिनों पर नजर डाली जाए तो कई ऐतिहासिक फैसलों की वजह से भी यह चर्चा में है। पीएम मोदी के बर्थडे को मनाने के लिए खास तैयारियां की गई हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जन्मदिन से पहले सोमवार देर अपने गृह राज्य गुजरात पहुंचे। पीएम मोदी के बर्थडे पर चलिए जानते हैं वह रोचक वाकया, जब अटल बिहारी वाजपेयी के एक फोन कॉल ने उन्हें मुख्यमंत्री बनाया था। 

दरअसल, बात उस वक्त की है जब कांग्रेस के दिग्गज नेता माधव राव संधिया का एक्सीडेंट हो गया था। साल 2001 में कांग्रेस के दिग्गज नेता माधव राव सिंधिया का निधन प्लेन क्रैश में हो गया था। उस वक्त नरेंद्र मोदी दिल्ली में ही रहा करते थे। जिस विमान क्रैश में कांग्रेस नेता माधव राव सिंधिया का निधन हुआ थाष उसमें एक पत्रकार की भी मौत हो गई थी। एक ओर जहां माधव राव सिंधिया के अंतिम संस्कार में जाने वाले नेताओं की भीड़ थी, वहीं पत्रकार के अंतिम संस्कार में गिने-चुने लोग ही पहुंचे थे। बताया जाता है कि जिस पत्रकार की मौत हुई थी, उसका नाम गोपाल था। 

माधव राव सिंधिया के अंतिम संस्कार की वजह से गोपाल के दाह-संस्कार में नेताओं की मौजूदगी नहीं दिखी थी। ये बात जब नरेंद्र मोदी को पता चली तो उन्हें खराब लगा। इसके बाद नरेंद्र मोदी माधव राव सिंधिया के अंतिम संस्कार में न जाकर वे पत्रकार के अंतिम संस्कार में शरीक होने गए।  अपने भाषण में पीएम नरेंद्र मोदी इस घटना का जिक्र करते हुए कहते हैं कि यह बात उन्हें बहुत खली थी और इसी वजह से वह पत्रकार के अंतिम संस्कार में शामिल हो ने गए थे। 

जब नरेंद्र मोदी पत्रकार के अंतिम संस्कार के लिए श्मशान घाट में मौजूद थे, तभी उन्हें उस वक्त के प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का फोन आया। तत्कालिन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने नरेंद्र मोदी को फोन किया और बोले- कहां हो...। इस पर नरेंद्र मोदी ने जवाब दिया कि 'मैं अभी श्मशान घाट हूं'। ये सुनते ही अटल जी हंस पड़े और बोले- तुम श्मशान में हो मैं अभी क्या बात करूं। इस पर नरेंद्र मोदी ने कहा कि आपने फोन किया तो जरूर कोई काम होगा, इस पर अटल जी बोले कि कितने बजे लौटोगे और श्मशान में क्यों हो? इसके बाद नरेंद्र मोदी ने पूरा वाकया बताया। 

इस तरह से नरेंद्र मोदी जब श्मशान में ही थे, तभी वाजपेयी का उन्हें फोन आया और उन्हें गुजरात के मुख्यमंत्री बनाने की सूचना दी। हालांकि, वह इस प्रस्ताव को फोन पर ही स्वीकार कर चुके थे, बावजूद वह रात को अटल बिहारी वाजपेयी से मिलने उनके आवास पर गए। इस तरह से उस एक फोन कॉल के बाद नरेंद्र मोदी 2001 में पहली बार गुजरात के सीएम बने। 

बता दें कि 17 सितंबर 1950 को वडनगर में उनका जन्म हुआ था। अपने चहेते नरेंद्र भाई के बर्थ डे के लिए अहमदाबाद शहर सज-धज कर तैयार है। हवाई अड्डे से लेकर राज भवन तक होर्डिंग और बैनर लगे हैं। पीएम मोदी के बर्थ डे पर पूरे गुजरात में नर्मदा महोत्सव मनाया जा रहा है। क़रीब 5000 जगहों पर नर्मदा की आरती होगी। इसके लिए खास तौर पर केवड़िया में कार्यक्रम किया जा रहा है। इस कार्यक्रम में उपस्थित रहने के लिए गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आमंत्रित किया है।