पाकिस्तान

पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों के साथ कैसा सलूक होता है, उसकी एक और ताजा तस्वीर सामने आई है. पाकिस्तान के सिंघ प्रांत के घोतकी इलाके में कट्टरपंथियों ने एक मंदिर में जमकर तोड़फोड़ की.

 ये विवाद स्थानीय हाईस्कूल के एक हिन्दू शिक्षक पर ईश निंदा के झूठे आरोपों से शुरू हुआ. शिक्षक पर आरोप एक छात्र ने लगाया था. इसकी खबर जब कट्टरपंथियों को लगी तो उन्होंने स्कूल और मंदिर पर हमला बोल दिया और जमकर तोड़फोड़ की.

हैरानी की बात ये है कि इस मौके पर वहां मौजूद पुलिस तमाशबीन बनी रही. इस घटना के बाद घोटकी में सन्नाटा पसर गया है. हिन्दू समुदाय के लोग डरे हुए हैं.

ये सब उस पाकिस्तान में हुआ जहां के प्रधानमंत्री आतंकवादियों और पत्थरबाजों पर एक्शन का मुद्दा यूएन में उठाने की गीदड़भभकी देते हैं. पाकिस्तान में लगातार अल्पसंख्यकों पर हमले की खबर आ रही है.

हाल ही में एक सिख लड़की के जबरन धर्मांतरण और निकाह का भी केस सामने आ चुका है. जबकि खौफ में इमरान की पार्टी के ही एक पूर्व हिन्दू विधायक बलदेव कुमार शरण लेने भारत आ चुके हैं.