नई दिल्ली 
भारतीय टीम रविवार शाम को जब साउथ अफ्रीका के खिलाफ टी20 सीरीज का आगाज करने उतरेगी, तो उसकी जर्सी पर अब 'ओप्पो' नहीं बल्कि 'बायजूस' दिखेगा। ओप्पो ने साल 2017 में भारतीय टीम की जर्सी पर प्रायोजन के अधिकार 31 मार्च 2022 तक के लिए खरीदे थे लेकिन अब उसने अपने ये अधिकार 'ऑनलाइन ट्यूटोरियल फर्म' बायजूस को स्थानांतरित कर दिए हैं। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने टीम इंडिया की जर्सी पर प्रायोजन अधिकार 5 साल के लिए 1079 करोड़ रुपये में इस मोबाइल निर्माता कंपनी को बेचे थे। ओप्पो ने वर्ल्ड कप के बाद अपने इन अधिकारों को बायजूस को स्थानांतरित कर दिए। इससे बीसीसीआई को किसी भी तरह का नुकसान नहीं होगा क्योंकि नई कंपनी पुरानी कंपनी जितनी ही राशि का भुगतान करेगी। अब बायजूस और ओप्पो ने इन अधिकारों पर समझौता कर नियमों के मुताबिक बीसीसीआई से इसकी मंजूरी ले ली थी। बोर्ड ने जुलाई में ही इसकी घोषणा सार्वजनिक कर दी थी कि सितंबर से टीम इंडिया अपनी जर्सी पर ओप्पो का नहीं बल्कि बायजूस का लोगो लगाकर खेलेगी।