नई दिल्ली 
केंद्रीय श्रम एवं रोजगार राज्यमंत्री संतोष गंगवार ने नौकरियों पर बड़ा बयान दिया था. गंगवार ने नौकरियों में कमी की जगह युवाओं की काबिलियत पर ही सवाल खड़े कर दिए थे. उन्होंने कहा था कि देश में रोजगार और नौकरियों की कोई कमी नहीं है.

संतोष गंगवार ने कहा कि हमारे उत्तर प्रदेश में जो रिक्रूटमेंट करने आते हैं, वो इस बात का सवाल करते हैं कि जिस पद के लिए हम रख रहे हैं उस क्वालिटी का व्यक्ति हमें नहीं मिल रहा है. कमी है तो योग्य लोगों की.

इस बयान के बाद उनपर विपक्षी नेताओं ने जमकर हमला बोला. बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने गंगवार को देश से माफी मांगने के लिए कहा था. वहीं कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने कहा था कि उत्तर भारतीयों का अपमान कर संतोष गंगवार बच नहीं सकते हैं.

बयान पर फजीहत के बाद संतोष गंगवार ने अपनी सफाई दी है. संतोष गंगवार ने कहा,  मैंने जो कहा था उसका अलग संदर्भ था. देश में योग्यता (स्किल) की कमी है और सरकार ने इसके लिए कौशल विकास मंत्रालय भी खोला है. इस मंत्रालय का काम नौकरी के हिसाब से बच्चों को शिक्षित करना है.
 
क्या था गंगवार का बयान

संतोष गंगवार ने कहा था कि हम इसी मंत्रालय को देखने का काम करते हैं. इसलिए मुझे जानकारी है कि देश में रोजगार की कोई कमी नहीं है. रोजगार बहुत है. रोजगार दफ्तर के आलावा हमारा मंत्रालय भी इसकी मॉनिटरिंग कर रहा है. रोजगार की कोई समस्या नहीं है बल्कि जो भी कंपनियां रोजगार देने आती हैं, उनका कहना होता है कि उन युवाओं में योग्यता नहीं है. मंदी की बात समझ में आ रही है, लेकिन रोजगार की कमी नहीं है.