Friday, October 19th, 2018

हाई कोर्ट करेगा फैसला, चोरी के रुपयों से खरीदी गई कार का मालिक कौन? 

अहमदाबाद 
गुजरात हाई कोर्ट में एक अजीब मामला दायर हुआ है। इस केस में कोर्ट को फैसला देना है कि चोरी के रुपयों से खरीदी गई कार का मालिक कौन होगा? दरअसल, एक व्यक्ति ने चोरी की। चोरी के रुपयों से उस शख्स ने अपने बेटे को कार गिफ्ट की। जांच के दौरान पुलिस ने चोर को दबोचा और कार जब्त कर ली। अब चोर के बेटे ने हाई कोर्ट में केस करके कार पर हक की बात कही है। 
 

यह मामला अहमदाबाद का है। यहां रहने वाले शरदचंद्र शाह के घर से 19.5 लाख रुपये कैश और जेवर  चोरी हुए थे। कुछ महीनों बाद क्राइम ब्रांच ने सुरेश मकवाना नाम के एक आरोपी को गिरफ्तार किया। उसके ऊपर कई चोरी की वारदातों का अंजाम देने का आरोप था। उसने पुलिस पूछताछ में शरदचंद्र के यहां चोरी करने की बात भी कबूल की। 

स्थानीय कोर्ट का यह रहा फैसला 
जब पुलिस ने उससे चोरी के रुपयों के बारे में पूछा तो पता चला कि उसने 11 लाख रुपये से अपने बेटे संजय के लिए कार खरीदी थी। यह कार उसने अपने बेटे को उसकी शादी में गिफ्ट की थी। पुलिस ने संजय को गिफ्ट की गई कार जब्त कर ली।

शरदचंद्र शाह ने मिर्जापुर ग्रामीण की मैजिस्ट्रेट कोर्ट में मामला दायर कर कार का कब्जा मांगा। उन्होंने कहा कि कार उनके घर से चोरी किए गए रुपयों से खरीदी गई है। इस मामले में संजय की तरफ से आपत्ति दर्ज की गई। संजय ने कहा कि कार उसके नाम पर है, कार का मालिक वह है और कार पर उसका ही हक है। 16 मई को कोर्ट मैजिस्ट्रेट कोर्ट ने कार पर संजय का अधिकार बताया और उसे कार सौंपने का आदेश दिया। 

30 जुलाई को इस मामले की सुनवाई 
इस आदेश के खिलाफ शरदचंद्र शाह ने हाई कोर्ट में अपील की। उन्होंने हाई कोर्ट + से प्रार्थना की है कि मैजिस्ट्रेट कोर्ट का आदेश निरस्त करते हुए कार का कब्जा उसे दिया जाए। जस्टिस आरपी धोरालिया ने इस केस को स्वीकार कर लिया है और केस की सुनवाई के लिए 30 जुलाई की तारीख दी है। 

Source : Agency

संबंधित ख़बरें

आपकी राय

9 + 12 =

पाठको की राय