Thursday, July 19th, 2018

जयपुर: मिथक तोड़ कराई 25 पुरुषों की नसबंदी, ललिता को मिला इनाम

जयपुर 
नीली साड़ी में चेहरे पर आत्मविश्वास से भरी मुस्कान के साथ 30 वर्षीय ललिता राठी को बुधवार को जब राजस्थान सरकार ने सम्मानित किया तो उनकी खुशी का कोई ठिकाना न रहा। पिछले एक साल में किए गए शानदार कामों के चलते सम्मानित किए गए 50 लोगों के बीच ललिता लाइमलाइट में रहीं।  

आदिवासी बाहुल्य बारां जिले की रहने वाली ललिता के लिए इस सफलता को हासिल करना आसान नहीं था। आशा सहयोगी के तौर पर काम करने वाली ललिता ने 25 पुरुषों को सफलतापूर्वक नसबंदी के लिए प्रेरित किया। आशा सहयोगी के तौर पर काम करने वाली ललिता ने बताया, 'मैंने लोगों को प्रेरित करने के लिए सबसे पहले अपने पति को तैयार किया। 2 साल पहले उन्होंने अपनी नसबंदी करवाई।' 9 साल के लड़के और 11 साल की लड़की की मां ललिता को विश्व जनसंख्या दिवस के मौके पर सम्मानित किया गया। 

बारां जिले में पिछले एक साल में 198 पुरुषों ने नसबंदी करवाई है, इस सफल कार्यक्रम में राठी का काफी योगदान रहा है। ललिता ने कहा कि पुरुष नसबंदी को लेकर फैले अंधविश्वास की वजह से वे इससे दूर भागते थे। उन्होंने कहा, 'पुरुषों को नसबंदी के लिए तैयार करना काफी मुश्किल था। शुरुआती दौर में मैं थोड़ा था डरी लेकिन फिर मैंने बताया कि मेरे पति ने भी नसबंदी कराई है और उन्हें कोई परेशानी नहीं हुई। मैंने इलाके की महिलाओं से बात की और उनसे अपने पतियों को नसबंदी के लिए तैयार करने को कहा।' 

ललिता ने कहा कि यह मात्र एक मिथक है कि नसबंदी की वजह से पुरुषों में कमजोरी आती है। उन्होंने कहा, 'इसकी एक सामान्य प्रक्रिया और इसमें किसी तरह का कट या टांका लगाने की जरूरत नहीं पड़ती है।' ललिता को समारोह में 5000 रुपए के अलावा एक ट्रोफी भी दी गई। 

Source : Agency

संबंधित ख़बरें

आपकी राय

10 + 4 =

पाठको की राय