Friday, July 20th, 2018

इंग्लैंड में भारत का नाम रोशन कर रही मूक-बधिर शतरंज खिलाड़ी पूनम

गुना
 बुलंद हौसलों के आगे तमाम कमियां भी हार जाती हैं। कुछ यही साबित किया है मूक-बधिर सुमन ने। स्कूल समय से ही शतरंज के खेल से लगाव ने उन्हें इंग्लैंड पहुंचा दिया।

इन दिनों सुमन राजस्थान की टीम का हिस्सा होकर भारत का नाम रोशन कर रही हैं। शतरंज प्रतियोगिता में सुमन ने अब तक 4 राउंड जीत लिए हैं। इधर, उनके परिजन सुमन की अगवानी धूमधाम से करते हुए 15 अगस्त से पहले ही आजादी का पर्व मनाने की तैयारी कर रहे हैं।

दरअसल, सुमन सक्सेना का जन्म राजस्थान के नागौर जिले में हुआ था, जो बचपन से ही मूक-बधिर थीं। उनका विवाह मप्र के गुना जिले की चांचौड़ा तहसील स्थित लखनवास निवासी संतोष सक्सेना के छोटे पुत्र सचिन से हुआ है। पति सचिन भी मूक-बधिर हैं, लेकिन दोनों की शिक्षा इंदौर के मूक-बधिर स्कूल में साथ हुई। सचिन और सुमन की खासियत यह रही कि दोनों ही शतरंज के खिलाड़ी हैं।

वहीं सचिन के पिता गेल-विजयपुर में पदस्थ हैं, जबकि सचिन इंदौर में शिक्षा विभाग में क्लर्क के पद पर कार्य कर रहे हैं, लेकिन सुमन का शतरंज खेल के प्रति जज्बा ही था कि उन्हें इंग्लैंड में चल रही वर्ल्ड डेफ चेस प्रतियोगिता में भारत की ओर से खेलने का मौका मिला।

उक्त स्पर्धा 6 से 16 जुलाई तक इंग्लैंड के मेनचेस्टर सिटी में खेली जा रही है, जिसमें सुमन 4 राउंड जीत चुकी हैं। इससे पहले भी सुमन चार बार विदेश जाकर शतरंत प्रतियोगिता में भाग ले चुकी हैं।

परिवार में खुशी का माहौल

इधर, अपनी बहू की कामयाबी से परिवार में खुशी का माहौल है। परिजनों का कहना है कि सुमन के विदेश से लौटने पर, उसी तरह सम्मान किया जाएगा, जिस तरह युद्ध से सैनिक जीतकर आते हैं। सास-ससुर ने कहा कि हमें गर्व है कि हम बहू नहीं, बल्कि बेटी लाए हैं। उन्होंने कहा कि इस बार तो 15 अगस्त से पहले ही घर में स्वतंत्रता दिवस की खुशियां मनाई जाएंगी।

Source : Agency

संबंधित ख़बरें

आपकी राय

9 + 5 =

पाठको की राय